ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • तत्सम और तद्भव शब्द
      तत्सम और तद्भव शब्दTatsam Tadbhav Shabdसंस्कृत के कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो हिंदी में भी बिना परिवर्तन के प्रयुक्त होते हैं . उन शब्दों को तत्सम शब्द कहते हैं .तद्भव शब्द वे शब्द हैं जिनमे थोडा सा परिवर्तन करके हिंदी में प्रयुक्त किया जाता हैं . तत्सम  तद्भव अग्नि - आगअंध - अँधाअमृत - अमीअर्ध - आधाअष्ट - आठअश्रु - आँसूअक्षि - आँखअज्ञानी - अनजानआम्र - आमआद्रक- […]
      Ashutosh Dubey
    • खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्र
      खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्रLetter of Complaints against Food Adulteration in Hindiसेवा में ,स्वास्थ्य अधिकारी,दिल्ली नगर निगम,दिल्ली - 75विषय - खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्रमहोदय ,मैं आपका ध्यान दिल्ली में बढ़ रही खाद्य वस्तुओं में मिलावट की ओर दिलाना चाहता हूँ.आजकल बाज़ार में हल्दी में पीली मिट्टी ,काली मिर्च में पपीते के बीज ,मसलों […]
      Ashutosh Dubey
    • अर्द्धांगिनी
      अर्द्धांगिनी आज दीवाली का दिन था वसुधा आँगन में रांगोली डाल रही थी। बच्चे दोस्तों के साथ मौज मस्ती कर रहे थे। शैलेश सामान लेने बाजार गया था। अर्द्धांगिनी वसुधा की सास बहुत मजाकिया स्वाभाव की थीं वसुधा को देख कर बोलीं "बहुत सुन्दर लग रही हो बहुरानी ऐसा लगता है जैसे आज ही आई हो ब्याह के। ""माँजी आप भी "वसुधा शरमा कर बोली। वसुधा के सामने से […]
      Ashutosh Dubey
    • वो दीपावली
      वो दीपावली आज मैं दीपावली की सफाई में पत्नी का हाथ बटा रहा था कि अचानक मेरे  हाथ में अपने गांव की पुरानी फोटो दीपावलीलग गई जिसमे पूरा परिवार एक साथ था। पुराणी ब्लैक एंड वाइट फोटो जो की किनारों से गल चुकी थी। मैंने बहुत प्यार से उस फोटो को साफ किया और मेरे जेहन में गांव का वह टूटा फूटा घर उमड़ने लगा। मुझे याद है पिताजी नौकरी के कारण  पास के शहर में रहने लगे थे […]
      Ashutosh Dubey
    • राम रावण युद्ध में कौन जीता कौन हारा
      राम रावण युद्ध में कौन जीता कौन हाराराम रावण युद्धजब हम राम और रावण के बीच युद्ध की बात करते हैं तो हमरे अंदर  अच्छाई और बुराई का प्रतिबिम्ब बन जाता है और उसी के हिसाब से हमारा दृष्टिकोण निर्मित  जाता है। जब राम ने रावण को,जिसे हम  दानव राजा कहते हैं को हराया था; युद्ध के बाद राम ने आगे बढ़कर उस राक्षस राज के  विशाल ज्ञान की सराहना की बल्कि उसे सम्मानित भी क […]
      Ashutosh Dubey
    • आज कल और कल की कहानी
      आज कल और कल की  कहानी सन्नाटे की उस शिला पर खड़ी शैली खुद हैरान, ठगी हुई सिर्फ़ शून्य को देख सकती थी. यह वही जगह थी, उसका अपना ससुराल, जहाँ उसने भूतकाल की ज़मीन पर भविष्य के बीज बोए थे. वही भविष्य उसका ‘आज’ बन कर खड़ा है और वह खुद सोच की गहराइयों में गुम-सुम, अपने अतीत की परछाइयों से आती उन सिसकती आवाज़ों को सुन रही है.                                       […]
      Ashutosh Dubey
    • विजयदशमी
      विजयदशमीजानकी जीवन, विजय दशमी तुम्हारी आज है,दीख पड़ता देश में कुछ दूसरा ही साज है।राघवेन्द्र ! हमेँ तुम्हारा आज भी कुछ ज्ञान है,क्या तुम्हें भी अब कभी आता हमारा ध्यान है ?विजयदशमीवह शुभस्मृति आज भी मन को बनाती है हरा,देव ! तुम को आज भी भूली नहीं है यह धरा ।स्वच्छ जल रखती तथा उत्पन्न करती अन्न है,दीन भी कुछ भेट लेकर दीखती सम्पन्न है ।।व्योम को भी याद है प्रभु […]
      Ashutosh Dubey
    • स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्र
      स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्रApplication for a transfer certificate १३५ विकासनगर,नयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७सेवा में ,प्रधानाचार्य महोदय ,महात्मा गाँधी स्मारक विद्यालय,नयी दिल्ली - ७८महोदय ,सविनय निवेदन यह है कि मेरे पिता जी का तबादला इलाहाबाद हो गया है . हम लोग अगले महीने ही वहाँ जा रहे हैं .वहाँ मुझे दूसरे विद्यालय में प्रवेश लेना पड़ेगा […]
      Ashutosh Dubey
    • समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्र
      समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्रLetter on Importance of Time in Hindi१३५ विकासनगर,नयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७प्रिय मित्र रजनीशसप्रेम नमस्कार,मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और भगवान से तुम्हारी कुशलता की कामना करता हूँ . कल ही मुझे तुम्हारे बड़े भाई का पत्र मिला ,जिसे पढ़कर मुझे बहुत दुःख हुआ कि तुम गलत संगती में पड़कर अपने भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हो […]
      Ashutosh Dubey
    • भूल के लिए क्षमा मांगते हुए पिताजी को पत्र
      अपनी भूल के लिए क्षमा मांगते हुए अपने पिताजी को पत्र An Apology Letter from Son to Father in Hindi१३५ विकासनगरनयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७आदरणीय पिता जी ,सदर चरण स्पर्शपिता जी ,मुझे पता है कि माता जी के द्वारा आपको मेरे दुर्व्यवहार के बिषय में पता चला है . मैं ह्रदय से आपसे भूल स्वीकार करता हूँ . मुझे क्षमा कर दीजिये ,मैं अपने किये पर बहुत शर्मिंदा हूँ […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 233,394 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Archive for December, 2008

Phanishwar Nath Renu (1921-1977)

Posted by Sulabh on December 21, 2008

 

phanishwar-nath-renu hindi saahityakaar

phanishwar-nath-renu hindi saahityakaar

 Phanishwar Nath Renu is a revolutionary novelist of the post-Premchand era of the Hindi literature. He was the voice of the contemporary rural India and among the pioneers to bring regional voices into the mainstream Hindi literature. He was born on 4th March 1921in at  Aurahi Hingna village near Forbesganj, in Araria district (then Purnea district) Bihar. He received his primary education in Araria and Forbesganj. He passed his Matriculation from Viratnagar Adarsh Vidyalaya(school), Viratnagar, Nepal. And Intermediate from Kashi Hindu Vishvavidyalay (university) in 1942. He actively participated in the Indian freedom struggle in 1942. He was even involved in the Nepali revolutionary struggle in 1950 against the dictatorship and oppression of the Rana’s which led in the establishment of democracy in Nepal.

Phanishwar Nath Renu’s writings had an intimate feeling with the reader, which he developed by using the local flavor of the language instead of Khari Boli. Few of the novels written by him are Maila Anchal, Parti Parikatha, Juloos, Deerghtapa, Kitne Chaurahe and Paltu Babu Road. Among all his works Maila Anchal (1954) is his masterpiece. He was honored with Padma Shri by the Government of India for this novel. This novel mainly depicts the contemporary social life of the people who are poor and backward. It is considered to be one of the finest novels ever written in Hindi literature. It depicts the landscape of Bihar, the division of society on the basis of caste, Indian struggle of independence, and the true face of rural India. It has introduced a new form of novel by radically changing the structure and narrative style of Hindi novels.

Phanishwar Nath Renu even wrote short stories namely Maare Gaye Gulfam, Ek Adim Ratri Ki Mehak, Lal Pan Ki Begum Panchlight, Thes Samvadiya, Tabe Ekla Chalo Re, and few collection of stories include Thumri Agnikhor, and Acche Aadmi. His short story Panchlight is known for its pleasing portrayal of human behavior. His writings are very similar to Premchand’s writings especially in respect of choice of themes. Another short story Maare Gaye Gulfam was made into a film entitled Teesri Kasam.

This legendary writer left us on 11th April 1977.

Literary works –

 Novels

 Stories

  • Maare Gaye Gulfam (Teesri Kasam)
  • Lal Pan Ki Begum
  • Panchlight
  • Thes
  • Samvadiya
  • Tabe Ekla Chalo Re
  • Lakshmi

Story collections (Katha-Sangrah)

  • Thumri
  • Agnikhor
  • Acche Aadmi
  • Ek Adim Ratri Ki Mehak
  • Ek Shravani duphari

Memoirs

  • Rindjal Dhanjal
  • Van Tulsi ki gandh
  • Shrut Ashrut Purva

 Reportage

  • HrinJal- DhanJal
  • Nepali Kranti Katha
  • Van tulsi ki gandh
  • Shruth Asruth purve
  • Pahli kranti katha
Advertisements

Posted in Literacy / साहित्य | Tagged: , , , , | 4 Comments »

Football Wizard Syed Abdus Samad (1895-1964)

Posted by Sulabh on December 18, 2008

अररिया की धरती से जुड़ा था एक महान फ़ुटबॉलर – सईद अब्दुस ‘समद’ (1895-1964)

Samad-Football wizardआज भारत में फूटबाल की स्थिति दयनीय है.  विश्व फुटबॉल जगत में हमारा स्थान निराशाजनक मालूम पड़ता है. मगर हमारे इतिहास में फुटबॉल से जुड़ा एक स्वर्णिम अध्याय भी है. जी हाँ हम याद दिला रहे हैं एक महान फुटबॉल खिलाडी समद की. सईद अब्दुस समद ने अपने जीवनकाल में जिस प्रकार फुटबॉल खेल के प्रति समर्पण दिखाया और अपने विलक्षण प्रदर्शनों के बल हिन्दुस्तान का नाम रौशन किया ये समस्त विश्व के लिए उल्लेखनीय प्रकरण है. अररिया सीमा से सटे बांग्लादेश (तात्कालिक हिन्दुस्तान) के पत्रकार बन्धु जनाब मोहम्मद तवफिकुल हैदर की एक रिपोर्ट में हमें समद के बारे में जो जानकारी मिली वो रोचक है.

समद, सैयद अब्दुस (1895-1964) फुटबॉल खिलाड़ी. सैयद अब्दुस समद को बंगाल में फुटबॉल जादुकर (Football wizard) के रूप में जाना जाता था. वह 1895 में अररिया (तात्कालीन पूर्णिया, बिहार में पैदा हुए. अपनी औपचारिक शिक्षा के दौरान आठवीं कक्षा के बाद उसने स्कूल छोड़ा. समद अपने शुरुआती लड़कपन से फुटबॉल में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया. वह dribbling और tackling में  आश्चर्यजनक थे विशेष रूप से माप शॉट लेने में उनका कौशल गजब का था. वह जब पूर्णिया जूनियर फुटबॉल क्लब के लिए खेले तब कोलकाता के फुटबॉल क्लब के प्रबंधकों का ध्यान आकर्षित किया. वे 1912 में कोलकाता मेन टाउन क्लब में शामिल हो गए. 1915-1920 के दौरान, उन्होंने सक्रिय रूप से ताजहत फुटबॉल क्लब रंगपुर के साथ जुड़े रहे.

1916 में समद, समरसेट फुटबॉल टीम इंग्लैंड के खिलाफ एक मैच में खेले. वह कलकत्ता Orients क्लब के लिए 1918 में और ईस्ट बंगाल रेलवे टीम के लिए 1921-1930 में खेले. समद ने अपने कॅरिअर का सबसे यादगार ट्राफी 1927 में भारतीय सेना के मुख्य लेफ्टिनेंट जनरल शेरवुड मॉल द्वारा संरक्षित शेरवुड फोरेस्ट्री टीम के खिलाफ  विजयी गोल दागकर प्राप्त किया.

समद 1924 में भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए चुने गए और 1926 में कप्तानी की. उन्होंने बर्मा, सीलोन, हांगकांग, चीन, जावा, सुमात्रा, मलय, बोर्नियो, सिंगापुर और ब्रिटेन का दौरा किया. बीजिंग में खेले गए एक मैच में चीन के खिलाफ उन्होंने दूसरी हाफ में एक स्थानापन्न खिलाड़ी के रूप में खेलते हुए लगातार 4 गोल किया और पहले हाफ में 0-3 से पिछड़ने के बाद 4-3 से जीत दर्ज की. 1933 में 38 साल की उम्र में समद ने  कलकत्ता मोहम्मडन स्पोर्टिंग क्लब (स्थापित 1891)  ज्वाइन किया और अगले पांच वर्षों के लिए पुरे कौशल, जोश और समर्पण के साथ खेले. मुख्य रूप से उनके योगदान के कारण, उनकी टीम ने लगातार पाँच वर्षों तक प्रथम श्रेणी फुटबॉल लीग चैम्पियनशिप और भारतीय फुटबॉल एसोसिएशन शील्ड (IFA) टूर्नामेंट में जीत हासिल की. समद को ‘टूर्नामेंट के हीरो’ वाली टाईटल के साथ सम्मानित किया गया. समद और उनके बेटे गोलाम हुसैन एक साथ रेलवे टीम के लिए 1944 में भी खेले.

1947 के बाद, समद पूर्वी पाकिस्तान में दिनाजपुर जिले के पर्बतिपुर (बांग्लादेश)  में जा बसे और पूर्वी पाकिस्तान  रेलवे में रोजगार संभाला. 1957 में उनको राष्ट्रीय खेल परिषद बोर्ड का कोच नियुक्त किया गया था. उन्होंने 1962 में राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कार प्राप्त किया. 2 फरवरी 1964 को परबतिपुर में उनकी मृत्यु हो गई. बांग्लादेश फुटबॉल फेडरेशन उनके सम्मान में वार्षिक जादुकर समद स्मृति फुटबाल टूर्नामेंट आयोजित करता है.

बांग्लादेश सरकार ने फुटबॉल विजार्ड ‘समद’ के सम्मान में 2 फरवरी 1993 को एक डाक टिकट भी जारी किया है. आज क्रिकेट की चमक के बीच हम इस प्रकार खोये हुए हैं की आने वाली पीढी को शायद ही यकीन होगा की अंतर्राष्ट्रीय स्तर का एक फुटबॉल जादूगर कभी अररिया की धरती से जुड़ा था. वैसे समद की स्मृति में स्थानीय नेताजी सुभाष स्टेडियम के एक गेट का नाम ‘समद द्वार’ रखा गया है.

सुलभ जयसवाल

Posted in Sports | Tagged: , , | 5 Comments »