ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • हज़ार राहें
      हज़ार राहेंनीरज का मुंह लटका था आज जी मैन का रिजल्ट आया था और वह क्वालीफाई नही कर सका था।पिता ने उसकी मनोदशा समझ कर प्यार से कहासुनो बेटा तुम परीक्षा में असफल हो गए बस इतनी सी बात पर इतना दुख क्यों ?"पापा मैंने कितनी मेहनत की और आपका कितना पैसा खर्च हो गया और ये रिजल्ट मैं बहुत शर्मिंदा हूँ पापा"लगभग सुबकते हुए नीरज ने कहा।लेकिन मुझे बिल्कुल भी दुख […]
      Ashutosh Dubey
    • परवरिश
      परवरिश मां- बाप कैसे कैसे अपने बच्चे की परवरिश करते हैं, इसे शायद ही उनके बच्चे समझते होंगे। और जब तक वह समझते हैं तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। मां- बाप अपनी ममता को एकतरफा अपने बच्चे के प्रति लुटाते जाते हैं। उन्हें अपना व्यक्तिगत जीवन भी ऐन- केन प्रकारेण गुजारना पड़ता है। कोई- कोई समझदार बेटे मां- बाप के दर्द को समझ लेते हैं और मां-वाप का सहारा बन उनकी ब […]
      Ashutosh Dubey
    • चश्मे का फ्रेम
      चश्मे का फ्रेमबांकी-चितवन,भोली-सी सूरत,और - मासूम अदा !वो क्लास में -तिरछी नजर सेमुझे देखते देखतुम्हारा -मंद-मंद मुस्कुराना !नाजुक उंगलियों में फंसी कलम से कागज के पन्नों परकुछ शब्द-चित्र उकेरना!और -उन्हीं उंगलियों से,नाक तक सरक आयेचश्मे को -बार-बार ऊपर करना !उफ़ ! वो चश्मे का फ्रेम !!और -फ्रेम-दर-फ्रेममेरे बिखरते सपनों काफिर से -संवर जाना !!2. उफ़ !--------श […]
      Ashutosh Dubey
    • उनींदा बचपन
      उनींदा बचपनकिताबों के बोझ तलेउनींदा और सहमा बचपनरोया-रोया साखोया-खोया साकभी डराकरकभी धमकाकरऔर कभी तो पीट-पीटकरभेजा जाता स्कूल को बचपनहमारे देश के नौनिहालआने वाले कल के कणॅधारपीठ पर लादे बस्ते का बोझअनमने और खीझतेंस्कूल से आतेऔर टयूशन न जाने केजाने कितने बहाने बनातेकभी-कभी तो लगता ऐसाजैसे ये बच्चे किसी सजा को भोग रहेखेलने-कूदने की उम्र मेंमोटे-मोटे किताबों से […]
      Ashutosh Dubey
    • तुमसे दूर होकर
      तुमसे दूर होकरकितना परेशान करती थी न मैं तुम्हें,और तुम भी कुछ कम हैरान न करते थे मुझे !सब याद है मुझेमेरे सो जाने पर जब तुम मेरी चोटी बांध देते थे पलंग सेऔर उठते ही चिल्ला चिल्ला कर रोती थी मैं,मुझे डराने के लिए कैसे तुम इतिश्री सिंहनकली छिपकली फेंकते थे मुझ पर और डर से घर के अंदर ही न जाती थी मैं,कैसे तुम्हें डांट खिलाने के लिएमां के सामने झूठमूट रोती मैं, […]
      Ashutosh Dubey
    • ताजमहल पर भगवा वस्त्र
      ताजमहल पर भगवा वस्त्र के बारे में भ्रम और निवारण नरेन्द्र भाई मोदी जी और आदित्य नाथ योगी जी की सरकार में भगवा दुपट्टे और गमछों का चलन बढ़ा है, लेकिन ताजमहल में भगवा रंग के दुपट्टों को पहनकर पहुंची विदेशी मॉडल्स को सुरक्षा जांच के दौरान रोक दिया गया। 19 अप्रैल 2017 दोपहर को दिल्ली से आईं 34 देशों की मॉडलों(सुंदरियों ) में अधिकांश ने धूप से बचने के लिए रामनामी […]
      Ashutosh Dubey
    • मुझे सोने दो
      मुझे सोने दोनितिन ने कल ही तो प्रोजेक्ट जमा किया था वह आत्महत्या कैसे कर सकता है।नितिन का दोस्त मुकुल सुबक उठा पुलिस के सामने।नितिन आई आई टी के अंतिम वर्ष का छात्र था।एक सामान्य घर का मेधावी छात्र।आज अपने होस्टल के कमरे में पंखे से लटका मिला।पुलिस पूछ ताछ कर रही थी।कुछ दिनों से मानसिक प्रेसर में था नितिन उसके दोस्त मुकुल ने पुलिस को बताया .वो कह रहा था मैं ज […]
      Ashutosh Dubey
    • जसवंत की छतरी
      आगरा का इकलौता राजपूत सती स्मारक जसवंत की छतरी जसवंत की छतरी अमर इतिहास:- अमर सिंह राठौर जोधपुर के राजा गजसिंह के बड़े बेटे थे। मतभेद के बाद उन्होंने पिता का घर छोड़ दिया। अमर सिंह उस वक्त वीर योद्धाओं में गिने जाते थे और मुगल शहंशाह शाहजहां के दरबार में खास अहमियत रखते थे। सन् 1644 में अन्य दरबारियों ने उन पर जुर्माना लगवा दिया। जब भरे दरबार में दरबारी सलावत […]
      Ashutosh Dubey
    • डॉक्टर से नफ़रत है मुझे
      डॉक्टर से नफ़रत है मुझेआज सुब्ह सोकर उठी तो देखा कि मां रो रही हैं, आन्सू गिर रहे थे चुपचाप से, जेसे अपने वजूद की तलाश अब भी हो !पिता मे कभी तमीज़ नहीं आयी केसे अपनी बीवी और बेटी से बोलना है ! हां बेटा कभी मां बाहिन की भी सुना दे तो कोई फर्क नहीं पडता, आखिर बेटे मे खुद का खून जो है और बेटा अपना है !जेसा डाक्टर ललित के दादा ने उनकी दादी के साथ किया, पिता ने मां […]
      Ashutosh Dubey
    • माँ
      माँ पर मुक्तकन पूजा  न अरदास करता हूँ।माँ तेरे चरणों में निवास करता हूँ।औरों लिए तू सब कुछ दे दे।माँ मैं तेरी मुस्कान की आस करता हूँ।तेरा हर आंसू दर्द का समंदर है।माँ बक्श दे मुझे जो दर्द अंदर है।यूँ न रो अपने बेटे के सामने।तेरा आँचल मेरे लिए कलंदर है।माँ तू क्यों रोती है मैं हूँ ना।तुझको जन्नत के बदले भी मैं दूँ ना।तेरी हर सांस महकती मुझ मैं।तेरे लिए प्राण […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 211,568 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Football Wizard Syed Abdus Samad (1895-1964)

Posted by Sulabh on December 18, 2008

अररिया की धरती से जुड़ा था एक महान फ़ुटबॉलर – सईद अब्दुस ‘समद’ (1895-1964)

Samad-Football wizardआज भारत में फूटबाल की स्थिति दयनीय है.  विश्व फुटबॉल जगत में हमारा स्थान निराशाजनक मालूम पड़ता है. मगर हमारे इतिहास में फुटबॉल से जुड़ा एक स्वर्णिम अध्याय भी है. जी हाँ हम याद दिला रहे हैं एक महान फुटबॉल खिलाडी समद की. सईद अब्दुस समद ने अपने जीवनकाल में जिस प्रकार फुटबॉल खेल के प्रति समर्पण दिखाया और अपने विलक्षण प्रदर्शनों के बल हिन्दुस्तान का नाम रौशन किया ये समस्त विश्व के लिए उल्लेखनीय प्रकरण है. अररिया सीमा से सटे बांग्लादेश (तात्कालिक हिन्दुस्तान) के पत्रकार बन्धु जनाब मोहम्मद तवफिकुल हैदर की एक रिपोर्ट में हमें समद के बारे में जो जानकारी मिली वो रोचक है.

समद, सैयद अब्दुस (1895-1964) फुटबॉल खिलाड़ी. सैयद अब्दुस समद को बंगाल में फुटबॉल जादुकर (Football wizard) के रूप में जाना जाता था. वह 1895 में अररिया (तात्कालीन पूर्णिया, बिहार में पैदा हुए. अपनी औपचारिक शिक्षा के दौरान आठवीं कक्षा के बाद उसने स्कूल छोड़ा. समद अपने शुरुआती लड़कपन से फुटबॉल में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया. वह dribbling और tackling में  आश्चर्यजनक थे विशेष रूप से माप शॉट लेने में उनका कौशल गजब का था. वह जब पूर्णिया जूनियर फुटबॉल क्लब के लिए खेले तब कोलकाता के फुटबॉल क्लब के प्रबंधकों का ध्यान आकर्षित किया. वे 1912 में कोलकाता मेन टाउन क्लब में शामिल हो गए. 1915-1920 के दौरान, उन्होंने सक्रिय रूप से ताजहत फुटबॉल क्लब रंगपुर के साथ जुड़े रहे.

1916 में समद, समरसेट फुटबॉल टीम इंग्लैंड के खिलाफ एक मैच में खेले. वह कलकत्ता Orients क्लब के लिए 1918 में और ईस्ट बंगाल रेलवे टीम के लिए 1921-1930 में खेले. समद ने अपने कॅरिअर का सबसे यादगार ट्राफी 1927 में भारतीय सेना के मुख्य लेफ्टिनेंट जनरल शेरवुड मॉल द्वारा संरक्षित शेरवुड फोरेस्ट्री टीम के खिलाफ  विजयी गोल दागकर प्राप्त किया.

समद 1924 में भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए चुने गए और 1926 में कप्तानी की. उन्होंने बर्मा, सीलोन, हांगकांग, चीन, जावा, सुमात्रा, मलय, बोर्नियो, सिंगापुर और ब्रिटेन का दौरा किया. बीजिंग में खेले गए एक मैच में चीन के खिलाफ उन्होंने दूसरी हाफ में एक स्थानापन्न खिलाड़ी के रूप में खेलते हुए लगातार 4 गोल किया और पहले हाफ में 0-3 से पिछड़ने के बाद 4-3 से जीत दर्ज की. 1933 में 38 साल की उम्र में समद ने  कलकत्ता मोहम्मडन स्पोर्टिंग क्लब (स्थापित 1891)  ज्वाइन किया और अगले पांच वर्षों के लिए पुरे कौशल, जोश और समर्पण के साथ खेले. मुख्य रूप से उनके योगदान के कारण, उनकी टीम ने लगातार पाँच वर्षों तक प्रथम श्रेणी फुटबॉल लीग चैम्पियनशिप और भारतीय फुटबॉल एसोसिएशन शील्ड (IFA) टूर्नामेंट में जीत हासिल की. समद को ‘टूर्नामेंट के हीरो’ वाली टाईटल के साथ सम्मानित किया गया. समद और उनके बेटे गोलाम हुसैन एक साथ रेलवे टीम के लिए 1944 में भी खेले.

1947 के बाद, समद पूर्वी पाकिस्तान में दिनाजपुर जिले के पर्बतिपुर (बांग्लादेश)  में जा बसे और पूर्वी पाकिस्तान  रेलवे में रोजगार संभाला. 1957 में उनको राष्ट्रीय खेल परिषद बोर्ड का कोच नियुक्त किया गया था. उन्होंने 1962 में राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कार प्राप्त किया. 2 फरवरी 1964 को परबतिपुर में उनकी मृत्यु हो गई. बांग्लादेश फुटबॉल फेडरेशन उनके सम्मान में वार्षिक जादुकर समद स्मृति फुटबाल टूर्नामेंट आयोजित करता है.

बांग्लादेश सरकार ने फुटबॉल विजार्ड ‘समद’ के सम्मान में 2 फरवरी 1993 को एक डाक टिकट भी जारी किया है. आज क्रिकेट की चमक के बीच हम इस प्रकार खोये हुए हैं की आने वाली पीढी को शायद ही यकीन होगा की अंतर्राष्ट्रीय स्तर का एक फुटबॉल जादूगर कभी अररिया की धरती से जुड़ा था. वैसे समद की स्मृति में स्थानीय नेताजी सुभाष स्टेडियम के एक गेट का नाम ‘समद द्वार’ रखा गया है.

सुलभ जयसवाल

Advertisements

5 Responses to “Football Wizard Syed Abdus Samad (1895-1964)”

  1. Naveen said

    Ek achchi report prastut ki hai. Sulabh ji ko dhanyawaad.

  2. Shashi Bhanu Roy said

    I had heard of Abdus Samad, but I did not know he had emigrated to Bangladesh (East Pakistan). Isn’t it sad we lost one of our jewels to a foreign country.

    Does anybody know about another great footballer from Araria: Naseem bhai. He played in the 1970s in the football clubs in Kolkata. Then he came back to Araria in the late ’70s.

    Anybody has any update on him?

    Azad Academy Zindabad.

  3. aabhaar!! a lot of thanx 4 this info.

  4. Anuj Aman said

    Jabardast report hai yar.

  5. Tabrez said

    सुलभ जैसवाल जी,

    बहुत प्रसन्नता हुई आपका यह अद्भुत लेख पढ़कर! सौभाग्यवश, स्येद अब्दुस समद मेरे दादा थे और मेरे पिता के अपने चाचा! उन्होंने अपना ज्यादा समय पुरनिया में गुज़ारा! बहुत सरे यादें हैं जो बचपन में मैं सुना करता था! बहुत बहुत धन्यवाद्

    तबरेज़ नसर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: