ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • हज़ार राहें
      हज़ार राहेंनीरज का मुंह लटका था आज जी मैन का रिजल्ट आया था और वह क्वालीफाई नही कर सका था।पिता ने उसकी मनोदशा समझ कर प्यार से कहासुनो बेटा तुम परीक्षा में असफल हो गए बस इतनी सी बात पर इतना दुख क्यों ?"पापा मैंने कितनी मेहनत की और आपका कितना पैसा खर्च हो गया और ये रिजल्ट मैं बहुत शर्मिंदा हूँ पापा"लगभग सुबकते हुए नीरज ने कहा।लेकिन मुझे बिल्कुल भी दुख […]
      Ashutosh Dubey
    • परवरिश
      परवरिश मां- बाप कैसे कैसे अपने बच्चे की परवरिश करते हैं, इसे शायद ही उनके बच्चे समझते होंगे। और जब तक वह समझते हैं तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। मां- बाप अपनी ममता को एकतरफा अपने बच्चे के प्रति लुटाते जाते हैं। उन्हें अपना व्यक्तिगत जीवन भी ऐन- केन प्रकारेण गुजारना पड़ता है। कोई- कोई समझदार बेटे मां- बाप के दर्द को समझ लेते हैं और मां-वाप का सहारा बन उनकी ब […]
      Ashutosh Dubey
    • चश्मे का फ्रेम
      चश्मे का फ्रेमबांकी-चितवन,भोली-सी सूरत,और - मासूम अदा !वो क्लास में -तिरछी नजर सेमुझे देखते देखतुम्हारा -मंद-मंद मुस्कुराना !नाजुक उंगलियों में फंसी कलम से कागज के पन्नों परकुछ शब्द-चित्र उकेरना!और -उन्हीं उंगलियों से,नाक तक सरक आयेचश्मे को -बार-बार ऊपर करना !उफ़ ! वो चश्मे का फ्रेम !!और -फ्रेम-दर-फ्रेममेरे बिखरते सपनों काफिर से -संवर जाना !!2. उफ़ !--------श […]
      Ashutosh Dubey
    • उनींदा बचपन
      उनींदा बचपनकिताबों के बोझ तलेउनींदा और सहमा बचपनरोया-रोया साखोया-खोया साकभी डराकरकभी धमकाकरऔर कभी तो पीट-पीटकरभेजा जाता स्कूल को बचपनहमारे देश के नौनिहालआने वाले कल के कणॅधारपीठ पर लादे बस्ते का बोझअनमने और खीझतेंस्कूल से आतेऔर टयूशन न जाने केजाने कितने बहाने बनातेकभी-कभी तो लगता ऐसाजैसे ये बच्चे किसी सजा को भोग रहेखेलने-कूदने की उम्र मेंमोटे-मोटे किताबों से […]
      Ashutosh Dubey
    • तुमसे दूर होकर
      तुमसे दूर होकरकितना परेशान करती थी न मैं तुम्हें,और तुम भी कुछ कम हैरान न करते थे मुझे !सब याद है मुझेमेरे सो जाने पर जब तुम मेरी चोटी बांध देते थे पलंग सेऔर उठते ही चिल्ला चिल्ला कर रोती थी मैं,मुझे डराने के लिए कैसे तुम इतिश्री सिंहनकली छिपकली फेंकते थे मुझ पर और डर से घर के अंदर ही न जाती थी मैं,कैसे तुम्हें डांट खिलाने के लिएमां के सामने झूठमूट रोती मैं, […]
      Ashutosh Dubey
    • ताजमहल पर भगवा वस्त्र
      ताजमहल पर भगवा वस्त्र के बारे में भ्रम और निवारण नरेन्द्र भाई मोदी जी और आदित्य नाथ योगी जी की सरकार में भगवा दुपट्टे और गमछों का चलन बढ़ा है, लेकिन ताजमहल में भगवा रंग के दुपट्टों को पहनकर पहुंची विदेशी मॉडल्स को सुरक्षा जांच के दौरान रोक दिया गया। 19 अप्रैल 2017 दोपहर को दिल्ली से आईं 34 देशों की मॉडलों(सुंदरियों ) में अधिकांश ने धूप से बचने के लिए रामनामी […]
      Ashutosh Dubey
    • मुझे सोने दो
      मुझे सोने दोनितिन ने कल ही तो प्रोजेक्ट जमा किया था वह आत्महत्या कैसे कर सकता है।नितिन का दोस्त मुकुल सुबक उठा पुलिस के सामने।नितिन आई आई टी के अंतिम वर्ष का छात्र था।एक सामान्य घर का मेधावी छात्र।आज अपने होस्टल के कमरे में पंखे से लटका मिला।पुलिस पूछ ताछ कर रही थी।कुछ दिनों से मानसिक प्रेसर में था नितिन उसके दोस्त मुकुल ने पुलिस को बताया .वो कह रहा था मैं ज […]
      Ashutosh Dubey
    • जसवंत की छतरी
      आगरा का इकलौता राजपूत सती स्मारक जसवंत की छतरी जसवंत की छतरी अमर इतिहास:- अमर सिंह राठौर जोधपुर के राजा गजसिंह के बड़े बेटे थे। मतभेद के बाद उन्होंने पिता का घर छोड़ दिया। अमर सिंह उस वक्त वीर योद्धाओं में गिने जाते थे और मुगल शहंशाह शाहजहां के दरबार में खास अहमियत रखते थे। सन् 1644 में अन्य दरबारियों ने उन पर जुर्माना लगवा दिया। जब भरे दरबार में दरबारी सलावत […]
      Ashutosh Dubey
    • डॉक्टर से नफ़रत है मुझे
      डॉक्टर से नफ़रत है मुझेआज सुब्ह सोकर उठी तो देखा कि मां रो रही हैं, आन्सू गिर रहे थे चुपचाप से, जेसे अपने वजूद की तलाश अब भी हो !पिता मे कभी तमीज़ नहीं आयी केसे अपनी बीवी और बेटी से बोलना है ! हां बेटा कभी मां बाहिन की भी सुना दे तो कोई फर्क नहीं पडता, आखिर बेटे मे खुद का खून जो है और बेटा अपना है !जेसा डाक्टर ललित के दादा ने उनकी दादी के साथ किया, पिता ने मां […]
      Ashutosh Dubey
    • माँ
      माँ पर मुक्तकन पूजा  न अरदास करता हूँ।माँ तेरे चरणों में निवास करता हूँ।औरों लिए तू सब कुछ दे दे।माँ मैं तेरी मुस्कान की आस करता हूँ।तेरा हर आंसू दर्द का समंदर है।माँ बक्श दे मुझे जो दर्द अंदर है।यूँ न रो अपने बेटे के सामने।तेरा आँचल मेरे लिए कलंदर है।माँ तू क्यों रोती है मैं हूँ ना।तुझको जन्नत के बदले भी मैं दूँ ना।तेरी हर सांस महकती मुझ मैं।तेरे लिए प्राण […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 211,630 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Phanishwar Nath Renu (1921-1977)

Posted by Sulabh on December 21, 2008

 

phanishwar-nath-renu hindi saahityakaar

phanishwar-nath-renu hindi saahityakaar

 Phanishwar Nath Renu is a revolutionary novelist of the post-Premchand era of the Hindi literature. He was the voice of the contemporary rural India and among the pioneers to bring regional voices into the mainstream Hindi literature. He was born on 4th March 1921in at  Aurahi Hingna village near Forbesganj, in Araria district (then Purnea district) Bihar. He received his primary education in Araria and Forbesganj. He passed his Matriculation from Viratnagar Adarsh Vidyalaya(school), Viratnagar, Nepal. And Intermediate from Kashi Hindu Vishvavidyalay (university) in 1942. He actively participated in the Indian freedom struggle in 1942. He was even involved in the Nepali revolutionary struggle in 1950 against the dictatorship and oppression of the Rana’s which led in the establishment of democracy in Nepal.

Phanishwar Nath Renu’s writings had an intimate feeling with the reader, which he developed by using the local flavor of the language instead of Khari Boli. Few of the novels written by him are Maila Anchal, Parti Parikatha, Juloos, Deerghtapa, Kitne Chaurahe and Paltu Babu Road. Among all his works Maila Anchal (1954) is his masterpiece. He was honored with Padma Shri by the Government of India for this novel. This novel mainly depicts the contemporary social life of the people who are poor and backward. It is considered to be one of the finest novels ever written in Hindi literature. It depicts the landscape of Bihar, the division of society on the basis of caste, Indian struggle of independence, and the true face of rural India. It has introduced a new form of novel by radically changing the structure and narrative style of Hindi novels.

Phanishwar Nath Renu even wrote short stories namely Maare Gaye Gulfam, Ek Adim Ratri Ki Mehak, Lal Pan Ki Begum Panchlight, Thes Samvadiya, Tabe Ekla Chalo Re, and few collection of stories include Thumri Agnikhor, and Acche Aadmi. His short story Panchlight is known for its pleasing portrayal of human behavior. His writings are very similar to Premchand’s writings especially in respect of choice of themes. Another short story Maare Gaye Gulfam was made into a film entitled Teesri Kasam.

This legendary writer left us on 11th April 1977.

Literary works –

 Novels

 Stories

  • Maare Gaye Gulfam (Teesri Kasam)
  • Lal Pan Ki Begum
  • Panchlight
  • Thes
  • Samvadiya
  • Tabe Ekla Chalo Re
  • Lakshmi

Story collections (Katha-Sangrah)

  • Thumri
  • Agnikhor
  • Acche Aadmi
  • Ek Adim Ratri Ki Mehak
  • Ek Shravani duphari

Memoirs

  • Rindjal Dhanjal
  • Van Tulsi ki gandh
  • Shrut Ashrut Purva

 Reportage

  • HrinJal- DhanJal
  • Nepali Kranti Katha
  • Van tulsi ki gandh
  • Shruth Asruth purve
  • Pahli kranti katha
Advertisements

4 Responses to “Phanishwar Nath Renu (1921-1977)”

  1. Dr.ram manohar upadhyay said

    mani renu je par ph.d ke hy s.ubject phaniswar nath renu ke sahitya ki bhasha ka adhyayan in barkatullah university in the year 2003 .

  2. […] Nanda Biswas, Dhanusdhari Chowdhury, Harilal Jha, Nageshwar Jha, Buddhinath Thakur, Suryanand Sah, Fnishwar Nath Renu, Bodhnarayan Singh, Ganesh Lal are few names. Freedom struggle were continued led by […]

  3. badlao ki koshish ki thi unhone,
    still we are falling there……………
    so sad……………………..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: