ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • तत्सम और तद्भव शब्द
      तत्सम और तद्भव शब्दTatsam Tadbhav Shabdसंस्कृत के कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो हिंदी में भी बिना परिवर्तन के प्रयुक्त होते हैं . उन शब्दों को तत्सम शब्द कहते हैं .तद्भव शब्द वे शब्द हैं जिनमे थोडा सा परिवर्तन करके हिंदी में प्रयुक्त किया जाता हैं . तत्सम  तद्भव अग्नि - आगअंध - अँधाअमृत - अमीअर्ध - आधाअष्ट - आठअश्रु - आँसूअक्षि - आँखअज्ञानी - अनजानआम्र - आमआद्रक- […]
      Ashutosh Dubey
    • खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्र
      खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्रLetter of Complaints against Food Adulteration in Hindiसेवा में ,स्वास्थ्य अधिकारी,दिल्ली नगर निगम,दिल्ली - 75विषय - खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट हेतु पत्रमहोदय ,मैं आपका ध्यान दिल्ली में बढ़ रही खाद्य वस्तुओं में मिलावट की ओर दिलाना चाहता हूँ.आजकल बाज़ार में हल्दी में पीली मिट्टी ,काली मिर्च में पपीते के बीज ,मसलों […]
      Ashutosh Dubey
    • अर्द्धांगिनी
      अर्द्धांगिनी आज दीवाली का दिन था वसुधा आँगन में रांगोली डाल रही थी। बच्चे दोस्तों के साथ मौज मस्ती कर रहे थे। शैलेश सामान लेने बाजार गया था। अर्द्धांगिनी वसुधा की सास बहुत मजाकिया स्वाभाव की थीं वसुधा को देख कर बोलीं "बहुत सुन्दर लग रही हो बहुरानी ऐसा लगता है जैसे आज ही आई हो ब्याह के। ""माँजी आप भी "वसुधा शरमा कर बोली। वसुधा के सामने से […]
      Ashutosh Dubey
    • वो दीपावली
      वो दीपावली आज मैं दीपावली की सफाई में पत्नी का हाथ बटा रहा था कि अचानक मेरे  हाथ में अपने गांव की पुरानी फोटो दीपावलीलग गई जिसमे पूरा परिवार एक साथ था। पुराणी ब्लैक एंड वाइट फोटो जो की किनारों से गल चुकी थी। मैंने बहुत प्यार से उस फोटो को साफ किया और मेरे जेहन में गांव का वह टूटा फूटा घर उमड़ने लगा। मुझे याद है पिताजी नौकरी के कारण  पास के शहर में रहने लगे थे […]
      Ashutosh Dubey
    • राम रावण युद्ध में कौन जीता कौन हारा
      राम रावण युद्ध में कौन जीता कौन हाराराम रावण युद्धजब हम राम और रावण के बीच युद्ध की बात करते हैं तो हमरे अंदर  अच्छाई और बुराई का प्रतिबिम्ब बन जाता है और उसी के हिसाब से हमारा दृष्टिकोण निर्मित  जाता है। जब राम ने रावण को,जिसे हम  दानव राजा कहते हैं को हराया था; युद्ध के बाद राम ने आगे बढ़कर उस राक्षस राज के  विशाल ज्ञान की सराहना की बल्कि उसे सम्मानित भी क […]
      Ashutosh Dubey
    • आज कल और कल की कहानी
      आज कल और कल की  कहानी सन्नाटे की उस शिला पर खड़ी शैली खुद हैरान, ठगी हुई सिर्फ़ शून्य को देख सकती थी. यह वही जगह थी, उसका अपना ससुराल, जहाँ उसने भूतकाल की ज़मीन पर भविष्य के बीज बोए थे. वही भविष्य उसका ‘आज’ बन कर खड़ा है और वह खुद सोच की गहराइयों में गुम-सुम, अपने अतीत की परछाइयों से आती उन सिसकती आवाज़ों को सुन रही है.                                       […]
      Ashutosh Dubey
    • विजयदशमी
      विजयदशमीजानकी जीवन, विजय दशमी तुम्हारी आज है,दीख पड़ता देश में कुछ दूसरा ही साज है।राघवेन्द्र ! हमेँ तुम्हारा आज भी कुछ ज्ञान है,क्या तुम्हें भी अब कभी आता हमारा ध्यान है ?विजयदशमीवह शुभस्मृति आज भी मन को बनाती है हरा,देव ! तुम को आज भी भूली नहीं है यह धरा ।स्वच्छ जल रखती तथा उत्पन्न करती अन्न है,दीन भी कुछ भेट लेकर दीखती सम्पन्न है ।।व्योम को भी याद है प्रभु […]
      Ashutosh Dubey
    • स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्र
      स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्रApplication for a transfer certificate १३५ विकासनगर,नयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७सेवा में ,प्रधानाचार्य महोदय ,महात्मा गाँधी स्मारक विद्यालय,नयी दिल्ली - ७८महोदय ,सविनय निवेदन यह है कि मेरे पिता जी का तबादला इलाहाबाद हो गया है . हम लोग अगले महीने ही वहाँ जा रहे हैं .वहाँ मुझे दूसरे विद्यालय में प्रवेश लेना पड़ेगा […]
      Ashutosh Dubey
    • समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्र
      समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्रLetter on Importance of Time in Hindi१३५ विकासनगर,नयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७प्रिय मित्र रजनीशसप्रेम नमस्कार,मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और भगवान से तुम्हारी कुशलता की कामना करता हूँ . कल ही मुझे तुम्हारे बड़े भाई का पत्र मिला ,जिसे पढ़कर मुझे बहुत दुःख हुआ कि तुम गलत संगती में पड़कर अपने भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हो […]
      Ashutosh Dubey
    • भूल के लिए क्षमा मांगते हुए पिताजी को पत्र
      अपनी भूल के लिए क्षमा मांगते हुए अपने पिताजी को पत्र An Apology Letter from Son to Father in Hindi१३५ विकासनगरनयी दिल्ली - ७५दिनांकः ३०/०९/२०१७आदरणीय पिता जी ,सदर चरण स्पर्शपिता जी ,मुझे पता है कि माता जी के द्वारा आपको मेरे दुर्व्यवहार के बिषय में पता चला है . मैं ह्रदय से आपसे भूल स्वीकार करता हूँ . मुझे क्षमा कर दीजिये ,मैं अपने किये पर बहुत शर्मिंदा हूँ […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 233,394 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Archive for June, 2009

Few things to reform our Education system & Health in Poor India.

Posted by Sulabh on June 25, 2009

#Participate in this campaign if you like –

Before saying main issue first I would like to remind a story of
student. A small city student who thinks about builds and improves our
nation and its systems. After every events and class sessions which
was related to “How we can serve our country and society”. Student
Sulabh used to think deeply and was trying to write down something.
Those days the intention was to grab high marks amongst class mates.

After few years he saw a Red Light (Govt. D.S.P. Gypsy) Jeep is used
to pick up and drop a school boy at the time of school prayer and
final bell ring. The school was a simple public school situated nearby
one government primary and middle school. Sulabh thinks again this is
not fair. There are many poor children studying in both kind of schools
(Private and Govt.) as well. Gradually, public school became popular
and progressing fast and the situation of govt schools looks poor.
Today everywhere if we see maximum percentage of students in such
govt. schools is belonged to families of bottom line society.

Sulabh used to discuss with few people and friends, I think there
would be a rule “Public schools should be only open for business men,
private professionals etc. and kids of all govt. staffs and officers
must go govt. schools. Off course with all facilities (whatever free
for them as he getting in govt. offices and houses).” Kendriya
Vidyalay Sangathan (Central school in India) is very good example.

Today I feel immensely and want to ask loudly – Is there any need of
such rules??

If there would be law, everything will be automatically aligned and
people will have faith on govt. organizations. Specially for schools
and Hospitals. There are many govt. schools and hospitals running in
India without teacher, without doctor, without house and with lack of
other facilities. BUT THE TRUTH IS GOVERNMENT HAS GOOD BUDGET IN OUR
SYSTEM.

The reason is the person who belongs to services in either fourth
grade staff or they are first class gazetted officer. NOBODY WANTS TO
SEND THEIR KIDS IN GOVT SCHOOLS OR DON’T WANT TO GO GOVT HOSPITALS FOR
ANY AID.

Reply “YES” if you support…

Thanks

Sulabh Jaiswal
readers-online@googlegroups.com
sulabh.jaiswal@yahoo.com

Join: http://groups.google.co.in/group/readers-online

Advertisements

Posted in Discussion Forum (परिचर्चा) | Tagged: , , | 3 Comments »

Rainy season and your problem. .

Posted by Sulabh on June 7, 2009

By Dr.Abhay Kumar

Dear folks. .

This is rainy season. . . This season invites diseases like cough and cold ,viral fever ,diarrhea ,eye problems ,skin infection. . . Etc.

So be cautious and be away from these common problems.
Do these. .
1. Keep your surroundings clean ,sweep your room. . . Wear dry and clean cloth.

2.Give your cloths/bed/mattress to exposure of sunlight regularly,it will kill many bacteria that invites the disease.

3. Take safe and clean water. Use filter water/chlorinated or boiled water particularly in this reason. Chances of contamination increases in this season. It will keep you away from many disease.

4. Take parasol while going outside. The rain drops may invite cough and cold. . . And fever. Especially the prone.

5. Dont take chat ,golgappa or Tikka etc from thelawala. . . These are the reservoir of the disease.Especially the girls like so.

And anybody having quarry may ask. .

Dr.Abhay

Posted in Health | Tagged: , , , , | 2 Comments »