ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • विश्व योग दिवस
      मानव और प्रकृति के मध्य समन्वय ही योग है(21 जून को विश्व योग दिवस पर विशेष )महर्षि पतंजलि के अनुसार - ‘‘अभ्यास-वैराग्य द्वारा चित्त की वृत्तियों पर नियंत्रण करना ही योग है।’’ विष्णुपुराण के अनुसार -‘‘जीवात्मा तथा परमात्मा का पूर्णतया मिलन ही योग ;अद्वेतानुभुति योग कहलाता है।’’विश्व योग दिवसभगवद्गीताबोध के  अनुसार- ‘‘दुःख-सुख, पाप-पुण्य,शत्रु-मित्र, शीत-उष्ण […]
      Ashutosh Dubey
    • मुश्किलों से जूझते रहना क़लम
      मुश्किलों से जूझते रहना क़लम            मुश्किलों  से जूझते  रहना क़लम।हौंसलों की कहानी कहना क़लम।।        है   विवशता  से  भरा  हर  आदमी।        बोझ   कितना लिए है  सर आदमी।बृज राज किशोर " राहगीर "        आज भी कुछ काम मिल पाया नहीं,        टूटकर  चल  दिया  है  घर आदमी।दर्द उसका भी ज़रा सहना क़लम।मुश्किलों से  जूझते रहना क़लम।।        रोटियाँ ही   […]
      Ashutosh Dubey
    • मईया अब तुम ही समझाओ
       मईया अब तुम ही समझाओमईया अब तुम ही समझाओमन में प्रश्न अखरता है।रात होते ही चंदा क्यों मेरा पीछा करता है।मैं जो चलूँ तो चलने लगतारुक जाऊँ तो रुक जाता है।मैं जो हँसू तो हँसने लगताशरमाऊँ तो शरमाता है।मईया बोली सुन रे बेटा,इसमें नहीं दुराहा है।वैसे भी चंदा तो बेटा लगता तेरा मामा है।जैसे भौरा रस की खातिरफूलों पर मंडराता है।अम्बर अवनी को बाँहों मेंभरने को हाथ बढ़ा […]
      Ashutosh Dubey
    • चुनावी हथकंडे
      चुनावी हथकंडेरास्ते मे देखाएक नेता जैसाआदमी....एक गरीब के पैरपर पड़ा था।मुझे आश्चर्य हुआपता चला वहचुनाव में खड़ा था।कुछ दूरगरीबों का मोहल्ला था।देखा वहां बहुत हल्ला था।वहां एक घटना घटी।घर घर शराब बटी।रात में जबसब सो रहे थे।नेताजी...चुनाव के बीजबो रहे थे।नेता जी के लोगदुबक करमलाई चाट रहे थे।चुनावी पर्चियां मेंरख करपांच सौ के नोटबांट रहे थे।नेता जी महिलाओंसे रिश […]
      Ashutosh Dubey
    • व्यंग्य
      व्यंग्य जब मैं कहता हूँ ‘मेरी समझ में व्यंग्य’ तो इसे दो भागों में बांटा जा सकता है-पहला –‘मेरी समझ’ और दूसरा –‘व्यंग्य’ .जब मैं अपनी समझ के बारे में सोचता हूँ तो हंसी आती है .मुझे समझदार कोई और तो खैर क्या मानेगा मैं खुद ही नहीं मानता .अपने अब तक के किये पर नजर दौड़ता हूँ तो समझदारी से किया हुआ एक आधा काम भी नजर नहीं आता फिर वह लिखाई-पढाई हो ,नौकरी हो, प्रेम […]
      Ashutosh Dubey
    • मेरी माँ
      मेरी माँमाँ को ईश्वर से मिला है ममता का वरदानसच पूछो तो माँ इंसान नहीं है भगवानजब कभी मन होता बैचेनमाँ के सीने से लगकर मिलता है चैनमाँ ही है जो हमे बोलना सिखाती हैखुद थोडा सा खाकर रह जाती हमें भरपेट खिलाती हैमाँ करती है अपने बच्चों के लिए दुआ भी जाती हैमाँ के होते कोई मुसीबत ना हमको छू पाती हैरोज सुबह उठकर छूता हूँ मैं अपनी माँ के पाँवकडी धूप में माँ करती है […]
      Ashutosh Dubey
    • प्यारी कोयल
      प्यारी कोयलप्यारी कोयल-प्यारी कोयल,       तू इतना प्यारा कैसे गाती है?कोयलतू क्या खाती और क्या पीती?,       तू मुझको क्यों नहीं बतलाती है?कू-कू ,कू-कू तेरी बोली,       मन में मेरे घर कर जाती है।तू अपना तो राज़ बता,       फ़िर क्यों नहीं हमराज़ बनाती है?प्रभात हुआ सूरज निकला,       और तू मधुर गति से गाती है।तभी पड़े कानों में मेरे ध्वनि,       आकर मुझको जगाती है। […]
      Ashutosh Dubey
    • पिता का घोंसला
      पिता का घोंसलामेरी खिड़की पर चिड़ियों एक घोसला बना था। मैंने देखा उसमे से कुछ दिनों से आवाज़ नही आ रही थीं।मुझे लगा अब इसे हटा देना चाहिए। घोंसला ऊंचा था।मैंने टेबिल पर कुर्सी रखी और उस पर चढ़ने लगा।मेरे 75 साल के पिता जी जो आज भी शारीरिक रूप से मुझ से ज्यादा तंदुरुस्त हैं चिल्लाए"रुक जा सुशील तुझ से नही बनेगा,मुझे मालूम है तू हर काम थतर मतर करता है।हट मैं […]
      Ashutosh Dubey
    • आदत
      आदतअजीब सा शख्स हैं कुछकभी कहता हैकभी कहता ही नही,खामोश हो दरियारूबी श्रीमालीतो क्या बहता नही,सफर ही कुछऐसा है जिंदगी का,हमसफर हो कोईये जरूरी तो नहीतन्हा क्या यहॉलोग रहते नही,दूंढ लेते है हम अक्सरतन्हाई में भी खुशियाकौन कहता हैतन्हा कोई खुशरहता नही,गुलाब गुलाबहोता है,क्या सुख जाने परकोई गुलाब उसेकहता नही,दिल लगाने कीबात कहते हैं वो,उन्हें क्या खबरहम सिवा अपन […]
      Ashutosh Dubey
    • देश की दशा
      देश की दशा आज कीभारत एक ऐसा देश है जिसका स्वर्णिम इतिहास पूरे विश्व के लिए प्रेरणास्रोत बना है ।सभी क्षेत्रों में इसने जो योगदान दिया है,वह स्तुत्य है ।खगोलशास्त्र में कणाद, गणित में आर्यभट्ट,ब्रह्मशास्त्र में शंकराचार्य, राजनीति में महात्मा गाँधी आदि क्षेत्रों के कई महान चरित्र इस देश के हैं जिन्हें पूरे विश्व में आदर्श के रूप में देखा जाता है ।वर्त्तमान सम […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 217,468 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

“रंगारंग कवि सम्मलेन सह मुशायरा” आयोजक – सुलभ सतरंगी

Posted by Sulabh on August 20, 2009

स्वतंत्रता दिवस की शाम है और आज हम कवियों को कुछ विशेष आज़ादी है…(क्षमायाचना सहित )

हर साल तरह 15 अगस्त की ये शाम खुशनुमा है. दिन भर के विभिन्न कार्यक्रमों में भागीदारी के बाद अब कवियों, शायरों, व्यंग्यकारों की बारी है. आज उनको भरपूर आजादी है वे अपने अपने तरीको से इस महफिल को परवान चढाये. मंच संचालन कर रहे हैं युवा हास्य कवि सुलभ जायसवाल “सतरंगी”

सबसे पहले स्वागत है हमारे बुजुर्ग शायर जनाब शम्स जमाल साहब. (वयोवृद्ध शायर है – जोरदार स्वागत तालियों से)

@शम्स जमाल:

नौजवानी में हम बेहद इन्किलाबी हुए
अपने उसूलों पर जीये और आफताबी हुए
कांपती हाथो से चरागा लेकर, आज हम
एकबार फिर अपने शहर में किताबी हुए.

अगले कवि हैं श्री कमला प्रसाद बेखबर – “सर्वप्रथम सभी आगंतुकों को ६२वि वर्षगाँठ की शुभकामनाएं.”

@कमला प्रसाद बेखबर:

एक तरफ आजादी के ढोल नगारे हैं
वहीँ सीमा पर दहशत के नज़ारे हैं.
हम भी कहाँ सुरक्षित अपने गृहस्थी में
महंगाई के आगे फिर से हारे हैं.

*

(माहौल में हास्य रस घोलने आ रहे हैं – रहबान अली राकेश )

@रहबान अली राकेश:

मैं टीचर हूँ  अक्सर  इलेक्शन में जाता हूँ
पुलिस और संगीन के साये से मैं घबराता हूँ.

अपने मोहल्ले के साथियों को मतदान के नियम समझाता हूँ.
शिक्षा का हुआ कितना नुकसान
यह भी साथ में गिनाता हूँ.

चुनावी ड्यूटी और ओवरटाइम करके ही मैं पिकनिक के पैसे जुटाता हूँ.
मैं टीचर हूँ  अक्सर  इलेक्शन में जाता हूँ.

*

अगले शोरायकराम हैं – हारून रशीद ‘गाफिल’ अपने आँचलिक भाषा और परिचित अंदाज़ में –

@हारून रशीद ‘गाफिल’:

सुनह सुनह हो गाफिल भै,
इक दिन गेलाह हम्मे बम्बई
पहुँचते साथ भेलै ठगई
स्टेशन पर लेलकै हमरा से जुर्माना
मुंबई का टिकट दिखाओ तो जाना
कहलकै आल इंडिया पास नहीं चलेगा
मराठा परमिट नया लगेगा

की की बतैहयों तोहरा के आज
वहां चलै छै ठाकरे राज
भर दिन देत रहै छै गाली
घुमै छै ओकर साथ गुंडा मवाली

ना बुझै छै केकरो इंसान
बांटे पर लागल छै
फेर से हिन्दुस्तान   kavi-Sammelan-Araria

ऐसन नेता पर मुकदमा चलाओ
तब जाके सभै आजादी मनाओ  ||

*

अगले शायर हैं – जनाब मो. ताहा खामोश

@ताहा ‘खामोश’:

“सिर्फ एक शेर पढूंगा”

अपनी ग़ज़लों में रवानी और मैं कहाँ से लाऊं
बूढी हड्डियों में जवानी और मैं कहाँ से लाऊं
हर वो लम्हा याद है जब थे तुम तसकीने-हयात
तुमपे लुटाने को जिंदगानी और मैं कहाँ से लाऊं ||

*

जनाब हारून रशीद ने पुकारा है युवा कवि सुलभ सतरंगी को –

@सुलभ सतरंगी:

“अपनी विदेश नीति पर काफी क्षुब्ध हूँ…”

सन 62 का चीन लिखूं या आज 62वां हिन्दुस्तान लिखूं.
सन सैतालिस से धोखा खाते कितना पाकिस्तान लिखूं.
हिंदी-चीनी भाई-भाई, कह कर पीठ में छुरा घोपा
अरुणाचल पर अतिक्रमण या कश्मीर में कब्रिस्तान लिखूं.

*

अगले शायर हैं – मदन लाल ‘नश्तर’

@मदन लाल ‘नश्तर’ :
देखना है तो दौर-ए-तरक्की में दाग देखो
जम्हूर के बादलों से टपकता आग देखो
दूर तक फैली रौशनी मगर जेहन में अँधेरा है
अपने मकाँ में आग लगाये खुदगर्ज चराग देखो

(आगे जारी…)

Advertisements

3 Responses to ““रंगारंग कवि सम्मलेन सह मुशायरा” आयोजक – सुलभ सतरंगी”

  1. कब्रिस्तान लिखूं.

  2. best hai jee!

  3. tanweer said

    HAROON RASHEED SAHAB AP NE AB KULAHIYA JABAN KO AAM LOGAO KI JABAN BANA RAKHA HAI *************APKA BHANJA TANWEER(DEL)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: