ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • मच्छरों के प्रकोप के लिए पत्र
      मच्छरों के प्रकोप के लिए पत्रLetter format to the Municipality to drive away mosquitoes from your areaसेवा में ,स्वास्थ्य अधिकारी महोदय ,नगर निगम , इलाहाबाद।महोदय ,मैंने अपने इस पत्र के माध्यम से आपका ध्यान अपने इलाके की तरफ आकृष्ट करना चाहता हूँ जहाँ मच्छरों के प्रकोप से साधारण लोगों का जीवन दूभर हो गया है।शाम को फुट पाठ पर दुकान लगाने वाले गरीब दुकानदार इन […]
      Ashutosh Dubey
    • बदलाव
      बदलाव समय की घड़ी में  समय भी समयानुसार नहीं चलता वह बदल देता है दिशा अपनी तनिक देर में कुछ इस तरह जैसे बड़बड़ा कर  बदल जाती है जीभ और जो घुस जाती है  तपाक से भीतर मुहं के समय बदल देता है दुःख को सुख में  सुख को दुःख में रोते को हँसा देता है, हँसते को रुला देता है और तो और लगे हाथ छोटों से बड़ों को पिटवा भी देता है वह बना देता है रंक को राजा राजा को रंक समय घुल […]
      Ashutosh Dubey
    • रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के पत्र 
      रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के पत्र Indecent behaviour of Railway staffसेवा में , प्रभाग अधीक्षक ,उत्तर रेलवे,इलाहाबाद - ११ विषय - रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के सम्बन्ध में।  महोदय , आपको सूचित करना चाहता हूँ कि गत ११ दिसम्बर को मैं इलाहाबाद से फैज़ाबाद से चलने वाली साकेत एक्सप्रेस से फैज़ाबाद जा रहा था।  मुझे बड़े खेद के साथ बताना पड़ रहा  है कि मार्ग […]
      Ashutosh Dubey
    • बोर्ड परीक्षा का पहला दिन
      बोर्ड परीक्षा का पहला दिनहालांकि मैंने घड़ी में सुबह पांच बजे का अलार्म सेट कर दिया था किन्तु मुझे अलार्म की प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ी।  मैं सूर्योदय होने से पहले ही सोकर उठ चुका था।  ऐसा इसीलिए नहीं हुआ कि मैं चिंता या तनाव में था बल्कि मैं उत्तेजना और रोमांच का नौबाहु कर रहा था। मैं उठकर सुबह की ताज़ी हवा में साँस लेने  बालकनी में गया।  मैंने पिछली रात को काफी […]
      Ashutosh Dubey
    • मरते तो हम भी है रोज
      मरते तो हम भी है रोज हर तहरीर एक कयायत नही होती !हर रखी हुई चीज अमानत नही होती !!बेबसी की जुबां में जवाब के कितनें लफ्ज हैं,वरना हर खामोशी शराफत नही होती !!तस्वीरों में क्या साज क्या सज्जा है दिलकश,हर आंखों की मासुमियत नही होती !!मरते तो हम भी है रोज इल्म के जहर से ,लेकिन हर मौत की शोहरत नही होती !!जलते है चिराग भी जलते है घर भी ,मगर हर शमां की खासियत नही हो […]
      Ashutosh Dubey
    • इंडियन काफ़्का
      इंडियन काफ़्का मैं हूँ , कमरा है , दीवारें हैं , छत है , सीलन है , घुटन है , सन्नाटा है और मेरा अंतहीन अकेलापन है । हाँ , अकेलापन , जो अकसर मुझे कटहे कुत्ते-सा काटने को दौड़ता है । पर जो मेरे अस्तित्व को स्वीकार तो करता है । जो अब मेरा एकमात्र शत्रु-मित्र है ।        खुद में बंद मैं खुली खिड़की के पास जा खड़ा होता हूँ । अपनी अस्थिरता का अकेला साक्षी । बाहर ए […]
      Ashutosh Dubey
    • औरत क्या है
      औरत क्या है औरत कांच की सतह की तरह,पारदर्शी है औरतइसमें आप देख सकते है अपना प्रतिबिम्ब।जितना अधिक प्यार से इसे पोछेंगे उतनी अधिक चमकदार आपका प्रतिबिम्ब होगा एक औरत के अंदर आप छुपे होते हैं विभिन्न रूपों में। आपकी छवि उसकी लज्जा के अंदर है अगर आप जिद से इसे एक दिन तोड़ते हैं, तो आपकी छवि हज़ार टुकड़ों में बिखर जाएगी और फिर लाख कोशिश के बाद भी उस मोहक प्रतिबिम्ब […]
      Ashutosh Dubey
    • उस दिन
       उस दिनआज होता इस रिश्ते का भी कोई नामअगर उस दिन न होता मुझसे वह काम गलती थी मेरी बस इतनी किया था तुझपे विश्वासबार-बार मन के न कहने पर भीचली गयी तेरे साथहुई उस दिन मैं बदनामतृष्णा सागरदिया बेवफा सबने मुझको नाम ।आज होता इस रिश्ते का भी कोई नामअगर उस दिन न होता मुझसे वह कामबता सबको वफ़ा तो तूने भी न निभाईकिया हमारे रिश्ते को आमजिसे रखना था दिल मे संभाल किया उसे […]
      Ashutosh Dubey
    • बेटी का भविष्य
      बेटी का भविष्यनंदनी आज खाने में क्या है?जोरो की भूख लगी है।नमन ने कुतुहलवश पूछा।तुम्हारी ही पसंद की सारी चीजें हैं नमन, नंदनी ने कहा।खाना खाते ही नमन ने कहा वाह! मजा आ गया। नंदनी मैंने पहले भी कहा अभी भी कहूँगा तुम्हारे हाथों में जादू है। जो भी बनाती हो लाजवाब,जो भी खाए बस खाता जाए।नंदनी ने बीच मे टोकते हुए कहा नमन सोचती हूँ टिफ़िन का काम कर लूँ। हर साल कितने […]
      Ashutosh Dubey
    • शब्दों को कुछ कहने दो
      शब्दों को कुछ कहने दोशब्द का अहसास चीख कर चुप होता है ।उछलता है मचलता है औरफिर दिल के दालानों में पसर कर बैठ जाता है।भावों की उफनती नदी जब मेरे अस्तित्व से होकर गुजरती है।तो शब्दों की परछाइयांतुम्हारी शक्ल सी बहती है उस बाढ़ में।ओस से गिरते हमारे अहसासशब्दों की धूप में सूख जाते हैं।चीखती चांदनी क्यों ढूंढती है शब्दों को।सूरज सबेरे ही शब्दों की धूप से कविता बु […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 239,850 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Archive for October, 2009

हाई स्कूल का प्रांगण, अन्नपुर्णा मिठाई दूकान, उमा टाकिज के फिल्म और नेताजी सुभाष स्टेडियम

Posted by Sulabh on October 7, 2009

(स्मृति दीर्घा से कुछ ख़ास पल – सुलभ जायसवाल, अररिया, बिहार)

बहुत ज्यादा नहीं 12-15 वर्ष पहले की बात है. उन दिनों अररिया में सरकारी स्कूल (मध्य विद्यालय और उच्च विद्यालय) में टिफिन / लंच टाइम तक टिक गए तो समझा जाता है की आप अच्छे विद्यार्थी हैं. हाजरी बना प्रथम कक्षा कर के निकल गए  तो आप नियमित विद्यार्थी हैं. यदि प्रतिदिन सातों कक्षा (सायं 4 बजे तक) उपस्थित रहे तो आप बहुत पढाकू हैं.  बहुत पढाकू होना कभी भी स्वास्थय के लिए ठीक नहीं माना गया है… सावधान ऐसी स्थिति में आपके मित्रों की संख्या काफी कम होगी और मुसीबत में या राह चलते कोई झगडा फसाद हो जाए तो आप शायद रोते हुए घर को लौटेंगे.

मेरे आठवीं कक्षा में नामांकन के 2  सप्ताह बाद ही मुझे अपने साथ के और कुछ वरिष्ठ साथियों के कहे अनुसार अपनी दिनचर्या में फेर बदल करना पड़ा. हाई स्कूल के बड़े मैदान में एक कोने के तरफ चापाकल हुआ करती है जहाँ से पानी पीने के बाद नज़र बचाते हुए बांस के टूटे दीवारों, नालियों, ईटों के ढेरों के पास होते हुए अन्नपुर्णा मिठाई दूकान(जहाँ चाय नास्ते का भी उत्तम प्रबंध रहता था) के पिछवारे से प्रवेश करना प्राय सरल ही था. दूकान में अन्दर आने के बाद जल्दी से किसी मेज़-कुर्सी पर जम जाईये. अब आप अररिया शहर के प्रमुख चांदनी चौक पर अवस्थित अन्नपूर्णा होटल के एक सम्मानित ग्राहक हैं.  धड़कते दिल के साथ दो रूपये में समोसे के साथ साथ पकोडे भी खा सकते हैं. धड़कते दिल से कहने का मतलब इतना है की हो सकता है उस समय संयोग से आपके बड़े भैया, चाचा या पिताजी भी चाय पीने वहां पहुँच सकते है. आपातकालीन स्थिति में आपके पास वापिस उसी स्कूल में पहुँचने का रास्ते सदैव खुला रहता है (सिर्फ उनके लिए बंद रहा है जिसने कभी होटल के वेटरों से बदतमीजी की हो).

अब यदि आपके पास पैसे हैं कम से कम तीन-चार रूपये भी तो आप उस होटल से बमुश्किल ढाई-तीन सौ मीटर मैन रोड पर  आगे उमा टाकिज में दाखिल हो सकते हैं. और 70 से 90 दशक के बीच की बॉलीवुड की सदाबहार, साधारण, औसत, हीट और सिल्वर जुबली वाली किसी फिल्म का प्रथम, द्वितीय या तृतीय श्रेणी में बैठ कर आनंद उठा सकते हैं.

बीते कुछ सालों  में शहर के सबसे व्यस्त रोड मेंन पर तरह तरह के दुकानों की संख्या में इजाफा ही हुआ है. लेकिन यह  उमा टाकिज जो शहरी-देहाती जनाना-मर्दाना के भीड़ से गुंजायमान रहता था, अपनी शान को बरकारार  न रख पाया. अकुशल प्रबंधन, मालिक बंधुओं की आपसी अनबन और हॉल में बैठकर सिनेमा देखने का घटता क्रेज़ आदि मिलकर ने शहर के एक आकर्षक पिक्चर पैलेस को कहीं का न छोड़ा.  इस मामले में अन्नपूर्ण स्वीट्स जरुर अपनी प्रतिष्ठा बचाने में सफल रहा. हालांकि दूकान दो भागो में बाँट चुकी है, अब बड़े-बड़े समोसे (सिंघारे)  और स्वादिस्ट पकोड़े  नहीं मिलते हैं. लेकिन आज भी ये चांदनी चौक का एक प्रमुख स्वीट्स कार्नर है.

हाई स्कूल/H.E. जिसका सम्पूर्ण नाम “राजकीयकृत उच्च विद्यालय, अररिया” १९११ में निर्मित भवन का प्रवेश द्वार सहित कुछेक बार मरम्मत हो चूका है, अन्दर के प्रांगन और मैदान में अब यहाँ कोलाहल काफी कम रहता है. मगर मुख्य सड़क पर हमेशा की तरह बाज़ार ठेले और फुटपाथ समेत शोरशराबे से शोभित है.

स्कूल भवन की चारदीवारी शहर के व्यस्त हाट-बाज़ार से जुडी हुई है. सुना है बाज़ार के कुछ दुकानों का किराया स्कूल के फंड में जाता है, वैसे हाट-बाज़ार के बहुत सारे दूकान राज्य सरकार, नगर पालिका और निजी सम्पति के विवाद से ग्रसित है. (माफ़ी चाहूँगा, इस बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं है).

कई बार सोचा की स्कूल में जाकर पता लगाऊं की क्या अब भी वहां आठवीं, नौवीं और दशवीं कक्षा में हिंदी के गद्द-सोपान और वही काव्य संग्रह पढाये जाते हैं या CBSE की तर्ज पर कुछ व्यापक बदलाव  यहाँ भी हुए हैं. क्या अब भी विशेस्वर बाबू संस्कृत की कक्षा नियमित लेते हैं. मुझे आज भी राष्ट्रकवि श्री माखनलाल चुतर्वेदी द्बारा रचित कविता “चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गुथा जाऊं…(शीर्षक- पुष्प की अभिलाषा)” विशेष पसंद है.   कथाकार रामवृक्ष बेनीपुरी ने कैसे 13 वर्ष की उम्र मात्र में साहित्य सृजन का बीडा उठाया, ये बाते मैं उन दिनों अक्सर सोचता था और कुछ लिखने का प्रयास करता था.

Subhash stadium Araria

Subhash stadium Araria

इसी क्रम में कुछ सफलता मिली थी पत्रिका सुमन-सौरभ के सौजन्य से. कितना खुश हुआ था मैं जब पहली बार मेरा नाम शीर्षक प्रतियोगिता के लिए सर्वश्रेष्ट चुना गया था. पुरे मोहल्ले में मेरा नाम सा हो गया था. और सबसे महत्वपूर्ण वो दिन स्वंत्रता दिवस (15-अगस्त-1996) नौंवीं कक्षा में पढ़ते हुए जिला-स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी में भाग लेकर प्रथम स्थान प्राप्त किया. नेताजी सुभाष स्टेडियम में पारितोषिक वितरण समारोह में जिला-पदाधिकारी श्री बी. प्रधान द्वारा पुरस्कृत हुआ. चारो तरफ से  तालियों की गूंज के बीच उनसे हाथ मिलाकर पुरस्कार ग्रहण करते हुए यही सोच रहा था की एक दिन चाँद को भी छु लूँगा.  चाँद को छूने से मेरा मतलब यह था की मैं आगे चलकर इसरो या भावा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में अन्तरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में कार्य करूँ. ये तो किशोर मन की उड़ान थी. आज एक व्यस्क और समझदार युवा के रूप में इतना ही सोच पता हूँ की भारत में बेरोजगारी और भ्रष्ट्राचार के उन्मूलन में कुछ महती कार्य करने की जरुरत है और चुनौतयां यह है की निजी क्षेत्र में  एक आई.टी. कंसल्टेंट के रूप में हर महीने नियमित बहुत सारे कार्य निष्पादन के साथ साथ यथोचित धनोपार्जन करते हुए किस प्रकार लक्ष्य की दिशा में आगे बढूँ. थोडा चिंतित हूँ परन्तु हताश बिलकुल नहीं.

 

 

Advertisements

Posted in Memorable (डायरी) | Tagged: , , , | 2 Comments »

Industries, Companies and Small Firms of Araria Bihar

Posted by Sulabh on October 6, 2009

PLYWOOD INDUSTRY:

1. Surya Manufacturing Pvt Ltd.

Araria R.S. Road Araria

Manufacturer and exporter of quality Plywood, boards, vaneers etc.

2. India Wood Craft

Gaiyari Road, Araria

Manufacturer and exporter of quality Plywood, boards, vaneers etc.

and more..

Jute Companies

Sahara Jute Research Centre (A division of Sahara India Ltd.)

Forbesganj Road, Araria

Courier and Stationary firm

Cyber City

Station Road, Araria

www.cybercitylive.com

IT/Software firm

Sukriti Consulting

Station Road, Araria

www.sukritisoft.com

This Page is under construction….

Food Items / खाद पदार्थ:

1. ASLAM STORE
Haat Bazaar, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453) 222119

2. MAHABIR AGENCIES
Mahabir Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

Page is under construction…

(Edit above info by sending email to cybercityararia@gmail.com)

Drugs & Medicines / दवा एवं औसधि:

1. SRI JAIN DISTRIBUTORS
Mahabir Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453) 222099

2. NATIONAL AGENCIES
Main Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

3. MEGHRAJ CHHATMAL AGENCIES
Mahabir Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

4. MC DISTRIBUTORS
Mahabir Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

5. SABA TRADERS
Station Road, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

6. SIDDHARTH DISTRIBUTORS
Bazar Road, Haat Bazar, Araria Court, Araria – 854311
Contact: (06453)

Page is under construction…

We appreciate if anybody can send more data for this page . email us sulabh.jaiswal[@]mail.com

Thank you.

Posted in Market Place | Tagged: , | Leave a Comment »