ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • तुलसीदास के पद Tulsidas Ke Pad
      तुलसीदास के पद - तुलसीदास  Tulsidas Ke Padजाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे ।काको नाम पतित पावन जग, केहि अति दीन पियारे ।कौनहुँ देव बड़ाइ विरद हित, हठि हठि अधम उधारे ।खग मृग व्याध पषान विटप जड़, यवन कवन सुर तारे ।देव, दनुज, मुनि, नाग, मनुज, सब माया-विवश बिचारे ।तिनके हाथ दास ‘तुलसी’ प्रभु, कहा अपुनपौ हारे ।व्याख्या - प्रस्तुत पद में तुलसीदास जी ने भगवान् श्रीराम की उ […]
      Ashutosh Dubey
    • साहित्य में शब्द और भाव और अनुभूतियाँ
      साहित्य में शब्द और भाव और अनुभूतियाँ मनुष्य में जटिल, सूक्ष्म, भावनाओं के  अनुभव करने की अद्वितीय क्षमता है । साथ ही भाषा के साथ एक दूसरे के लिए उन अनुभवों से संवाद स्थापित करने की एक अद्वितीय चुनौती भी मनुष्य के सामने रहती है।बहुत सारे अनुसंधान ने सिद्ध किया है कि कैसे हमारे भावनात्मक अनुभव भाषा के द्वारा सम्प्रेषित होते हैं। भाषा में जिन प्रतीकों के माध्य […]
      Ashutosh Dubey
    • बाल लीला सूरदास
      बाल लीला सूरदास Krishna Bal leela by Surdas in Hindiसोभित कर नवनीत लिए।घुटुरुनि चलत रेनु तन मंडित मुख दधि लेप किए॥चारु कपोल लोल लोचन गोरोचन तिलक दिए।लट लटकनि मनु मत्त मधुप गन मादक मधुहिं पिए॥कठुला कंठ वज्र केहरि नख राजत रुचिर हिए।धन्य सूर एकौ पल इहिं सुख का सत कल्प जिए॥व्याख्या - प्रस्तुत पद में सूरदास जी बाल गोपाल के नख शिख सौंदर्य का अद्वित्य वर्णन कर रहे […]
      Ashutosh Dubey
    • आ: धरती कितना देती है
      आ: धरती कितना देती है Aah ! dharati kitna deti hai by Sumitranandan Pantमैने छुटपन मे छिपकर पैसे बोये थे सोचा था पैसों के प्यारे पेड़ उगेंगे , रुपयों की कलदार मधुर फसलें खनकेंगी , और, फूल फलकर मै मोटा सेठ बनूगा ! पर बन्जर धरती में एक न अंकुर फूटा , बन्ध्या मिट्टी ने एक भी पैसा उगला । सपने जाने कहां मिटे , कब धूल हो गये । व्याख्या - पन्तजी कहते हैं कि मैंने ब […]
      Ashutosh Dubey
    • उत्साह - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
      उत्साह - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कक्षा १० हिंदी क्षितिज  बादल, गरजो!घेर घेर घोर गगन, धाराधर ओ!ललित ललित, काले घुंघराले,बाल कल्पना के से पाले,विद्युत छबि उर में, कवि, नवजीवन वाले!वज्र छिपा, नूतन कविताफिर भर दोबादल गरजो!व्याख्या - कवि कहता है कि बादलों में मानवों का उत्साह है।  वह अपने उत्साह  आकाश को घेर ले।  वह अपने उत्साह से सारे आकाश को घेर ले।  उसके काल […]
      Ashutosh Dubey
    • तड़ी-पार
      तड़ी-पारलेखक:मोहन कल्पनाअनुवाद: देवी नागरानी मुझे ऐसा लग रहा है कि उसने अपना हाथ बढ़ाकर मेरे चेहरे से मेरा मुखौटा उतार दिया है। अब वहाँ कोई चमड़ी, कोई मांस नहीं। वहाँ सिर्फ़ एक खोपड़ी है। ऐसा भी लगता है कि बदन पर कोई कपड़ा नहीं है। न चमड़ी, न माँस है। मैं न सिर्फ़ नंगा हूँ, पर जैसे एक जीता जागता मुर्दा हूँ। एक हड्डियों का ढाँचा हूँ, जिसके साथ मेरी चेतना, मेरा वजूद ज […]
      Ashutosh Dubey
    • भारत में मातृभाषाओं में हो विज्ञान का प्रसार
      भारत में मातृभाषाओं में हो विज्ञान का प्रसार आज विज्ञान की निरंतर बढ़ रही उपलब्धियों और उसकी आमजनों को दी गई सौगातों ने विज्ञान के प्रति लोगों की रुचि को बहुत अधिक बढ़ा दिया है। एक समय था जब लोग कहते थे कि विज्ञान एक बहुत ही कठिन विषयविज्ञानहै, जिसे सिर्फ अंग्रेजी में ही पढ़ा जा सकता है। वैसे भी यह विडम्बना भी रही है कि हमारे देश में शुरु से ही विज्ञान को शै […]
      Ashutosh Dubey
    • खड़ी बोली हिंदी का उद्भव व विकास
      खड़ी बोली हिंदी का उद्भव व विकासKhadi Boli Hindi ka Vikasखड़ी बोली का अर्थ - आजकल जिसे हिंदी कहा  है ,वह खड़ी बोली का विकसित रूप है। खड़ी बोली का यह नाम क्यों पड़ा ,इस विषय में मतभेद हैं। मुख्यतया तीन मत हैं -१. यह खरी बोली हैं। खरी बोली से बिगड़कर इसका नाम खड़ी बोली पड़ गया। २. ब्रजभाषा की तुलना में कर्कश होने के कारण इसे खड़ी बोली कहा जाने लगा।  ३. मेरठ के आस पास […]
      Ashutosh Dubey
    • अवकाश का महत्व
      अवकाश का महत्वUtilization of Leisure Time in Hindiएक पुरानी कहावत है - सिर्फ काम ही काम और कोई खेल नहीं तो आदमी को सुस्त बना देता है।आधुनिक पीढ़ी इस पुरानी कहावत का अर्थ मानो भूल चुकी है।  थोड़े ही समय में बहुत कुछ हासिल कर लेने के लिए लगातार अवकाशजारी भागदौड़ में लोगों के पास अवकाश के लिए बहुत काम समय बच पाता है। हर किसी को अवकाश अथवा फुर्सत की जरुरत होती है क […]
      Ashutosh Dubey
    • बालगोबिन भगत Balgobin Bhagat
      बालगोबिन भगत Balgobin Bhagat बालगोबिन भगत पाठ का सार-  बालगोबिन भगत रेखाचित्र के माध्यम से रामवृक्ष बेनीपुरी ने एक ऐसे विलक्षण चरित्र का उद्घाटन किया है जो मनुष्यता ,लोक  संस्कृति और सामूहिक चेतना का प्रतिक है। वेश भूषा या ब्रह्य आडम्बरों से कोई सन्यासी  है ,सन्यास  का आधार जीवन के मानवीय सरोकार होते हैं . बालगोबिन भगत इसी आधार पर लेखक को सन्यासी लगते हैं . […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 244,599 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Salil Kundu – A great magician (जादूगर सलिल कुंडू)

Posted by Sulabh on July 31, 2010

Salil Kundu (Magician)

मनोरंजन के क्षेत्र में भी अररिया ने विश्व को एक अनोखा व्यक्तित्व दिया है. आइये आज बात करते हैं अररिया की धरती से जुड़े एक शख्स सलिल कुमार कुंडू का जो आज महान जादूगर Magician Solyl Kundu के नाम से विख्यात हैं.

जादूगर सलिल पहले भारतीय जादूगर हैं जिन्होंने Magic Castle, Hollywood(हॉलीवुड) में जुलाई 2009 के दौरान प्रदर्शन किया.

Solyl Kundu

Salil Kumar Kundu – A great magician
Close Up, Stage and Childrens Magic

सलिल कुमार कुंडू,  आईबीएम (यूएसए) के क्षेत्रीय उप अध्यक्ष(भारत -N) हैं. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जादूगर Solyl Kundu के नाम से जाने जाते हैं. कोलकाता (Calcutta) के रहने वाले श्री कुंडू ने 1973 से भारत भर में और विदेशो में प्रदर्शन किया है.  वे वयस्कों और बच्चों के लिए, निजी पार्टियों में, क्लब और मंचों, रेस्तरां, बिक्री पदोन्नति, सम्मेलनों, और व्यापार सभाओं में प्रदर्शन कर चुके हैं.  वह समूह के लिए कम से कम तीन और अधिक से अधिक तीन हज़ार के साथ काम कर चुके हैं. वयस्क उनकी प्रशंसा और बच्चे उनके जादू को प्यार करते हैं.

पता: C-4, # 16, Karunamoyee, Salt Lake City, Kolkata, Sech Bhavan
Advertisements

6 Responses to “Salil Kundu – A great magician (जादूगर सलिल कुंडू)”

  1. md salik azam said

    we glad to know this information.sulabh bhai

  2. I feel proud because we are his next door neighbour at Araria, Adjacent to the Badu Babu’s Mill at Ashram para the old house is still there, next to the new building erected by the new owner. I still remember the Bell ka ped which was there near the rear boundary wall, it was big and the fruit was excellant, i cannot forget the Aam ka ped fruit were sweet when kachha,called Kancha Mitha Aam,and a big well next to the Bedroom.

  3. saheli pal said

    I AM HAPPY SEE YOU SO FAMAOUS. YOU HAVE REALLY FANTASIED PEOPLE INTO YOUR MAGIC

  4. Solyl Kundu said

    hi saheli,

    will you please introduce yourself. unfortunately i don’t recognize you by name.

    best,

    solyl kundu

    (better deepu kundu, if you are from araria 🙂 )

    solylkundu@gmail.com

  5. Solyl Kundu said

    Wishing YOU ALL a Very Bright & Pompous Diwali.

    God bless.

    Solyl Kundu, Magician

  6. Salil Kumar "Solyl" Kundu said

    Hi all,

    During this Durga Puja (October 2012) I’ll be at Araria totally at a friendly visit, after a long interval. I earnestly make a request to all my old (no pun intended) classmates of Araria H.S. School plus all other friends and acquaintances to meet me at their leisurely time for chit- chatting and reminiscences if they pleases and finds convenient. I’ll appreciate. Although, I’m not yet sure where shall I put up. However, with all possibility I’ll stay at the house of pal Badal Das (aka Ashok Das son of late Advocate Shakti Bhushan Das). Moreover, friends Sunu (Durgapada Ghosh at Bank of Baroda, Araria), Subhas Sengupta at Sahara India, and Srikisun at Maa Kali Mandir could be contacted to find out my whereabouts 🙂

    Take care, you all at Araria.

    With warm regards.

    Salil Kumar “Solyl” Kundu
    The Globe-trotting Magician

    Cell: +91 94324 92774 and +91 94333 12775

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: