ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • पछतावा
      पछतावा अंगद, जल्दी उठ जा बेटा ! 10 बजने को है । रात जल्दी सोना और जल्दी उठना सिख ले ।" शिवानी जी ने अपने बेटे को उठाते हुए कहा । अरे हाँ माँ, उठ रहा हूँ न, आपको नहीं पता कितना काम रहता है मुझे ।" चिढ़ते हुए अंगद ने कहा ।   शिवानी और तरुण का लाडला और इकलौता बेटा है अंगद इसीलिए उसे ज्यादा कोई कुछ नहीं कहता । कहने भी जाये तो उसकी दादी टोकने लगती है । स […]
      Ashutosh Dubey
    • नाच उठा हाथी
      नाच उठा हाथी कौत्स मुनि को पुत्र हुआ .उसका नाम रखा वत्स . पाँच साल का होने पर उसका उपनयन कर दिया .कावेरी नदी के तट पर आश्रम था .चारो ओर हरियाली . वन में पशु पक्षी खूब मौज करते थे .भृगु भी अपने छात्रों से बड़ा स्नेह करते थे .उन्हें तरह तरह की कथाएँ सुनकर शिक्षा देते थे .वत्स अपने गुरु को देखता .उसके लिए गुरु देवता के समान थे .वह उनकी देखा - देखी आचरण करता था . […]
      Ashutosh Dubey
    • अत्याचारी राजा
      अत्याचारी राजा  Atyachari Raja एक राजा था .वह बड़ा अत्याचारी था. आये दिन वह निर्दोष अपराधियों को कड़ी सजा देता था और खजाने का सारा पैसा अपनी विलासिता में खर्च कर देता था .जब आधा खजाना खाली हो जाता था तब वह प्रजा के ऊपर अन्याय करता तथा कर लगाता कर लगाकर पैसा वसूल करता था .राजा के अत्याचार से प्रजा बहुत दुखी थी .  अत्याचारी राजा उनकी समझ में यह बात नहीं आ रही थी […]
      Ashutosh Dubey
    • वैद्य जी भगाए गए
      वैद्य जी भगाए गए  देवीसहाय का लड़का भगवती प्रसाद बीमार हो गया था .वह गर्मी की दोपहरी में घर से चुपचाप आम चुनने भाग चिकित्सक गया और वहाँ उसे लू लग गयी थी .उसे जोर से ज्वर चढ़ गया .देवीसहाय ने वैद्य जी को अपने लड़के की चिकित्सा के लिए बुलाया . वैद्य जी ने आकर लड़के की नाड़ी देखी और कहा - "इसे लू लगी हैं . यह बड़ा चंचल जान पड़ता है . दोपहरी में घर से बाहर जाने का […]
      Ashutosh Dubey
    • मौसम को इशारों से बुला क्यूँ नहीं लेते
      मौसम को इशारों से बुला क्यूँ नहीं लेते  Mausam ko ishaaron se bula kyoon nahin lete मौसम को इशारों से बुला क्यूँ नहीं लेते ज़फ़र गोरखपुरी रूठा है अगर वो तो मना क्यूँ नहीं लेते दीवाना तुम्हारा कोई ग़ैर नहीं मचला भी तो सीने से लगा क्यूँ नहीं लेते ख़त लिख कर कभी और कभी ख़त को जलाकर तन्हाई को रंगीन बना क्यूँ नहीं लेते तुम जाग रहे हो मुझको अच्छा नहीं लगता चुपके स […]
      Ashutosh Dubey
    • मिले किसी से नज़र
      मिले किसी से नज़र तो समझो ग़ज़ल हुई Mile kisi se nazar to samjho ghazal hui मिले किसी से नज़र तो समझो ग़ज़ल हुई । रहे अपनी ख़बर तो समझो ग़ज़ल हुई ।। ज़फ़र गोरखपुरी मिला के नज़रों को वो हया से फिर, झुका ले कोई नज़र तो समझो ग़ज़ल हुई ।। इधर मचल कर उन्हें पुकारे जुनूँ मेरा, भड़क उठे दिल उधर तो समझो ग़ज़ल हुई ।। उदास बिस्तर की सिलवटे जब तुम्हें चुभें, न सो सको र […]
      Ashutosh Dubey
    • धोबी का गधा
      धोबी और गधे की कहानी :  नये तरीके से  आप लोगो ने धोबी और गधे की कहानी जरुर  सुनी होगी ! जिन्होंने नहीं सुनी या फिर सुनी है और भूल गए हैं उन्हें फिर से याद दिलाता हूं ।   एक धोबी के पास एक गधा और एक कुत्ता था । गधा मेहनती था और कुत्ता चालाक । एक  रात को धोबी के घर धोबी और गधा चोर घुसा । कुत्ते को यह पता चला कि घर में चोर घुसा है लेकिन वह बिलकुल भी नहीं भौंका […]
      Ashutosh Dubey
    • हम सब संकल्प लेते हैं
      हम सब संकल्प लेते हैं आज विद्यालय में पौधरोपण हो रहा था सभी बच्चे बड़े उत्साह से स्कूल में उछल कूद कर रहे थे। बड़े बच्चे गड्ढा खोद रहे थे छोटे बच्चे गड्ढों के पास पानी और खाद बगैरह का इंतजाम कर रहे थे। मास्टरजी सबको ताकीद कर रहे थे की पौधों को कैसे रोपित करना है।  पौधरोपण 'सुनील गड्ढा जरा नाप का खोदो देखो तुम तिरछा खोद रहे हो " मास्टरजी ने सुनील को न […]
      Ashutosh Dubey
    • हिंदी साहित्य का इतिहास
      हिंदी साहित्य का इतिहास  Hindi Sahitya Ka Itihas हिंदी साहित्य का इतिहास Hindi Sahitya Ka Itihas हिन्दी साहित्य का इतिहास - हिंदी भाषा की उत्पत्ति ग्यारहवीं शताब्दी के आस - पास स्वीकार किया जाता है .हिंदी साहित्य के प्रारंभ के विषय में विद्वानों के तीन प्रकार के मत है .शिवसिंह सेंगर ,मिश्रबंधु तथा आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने अपभ्रंश को ही पुरानी हिंदी मान कर हि […]
      Ashutosh Dubey
    • नवोदित रचनाकारों का स्थान और स्थिति
      वर्तमान साहित्य में नवोदित रचनाकारों का स्थान और स्थिति  साहित्य समाज का सशक्त अंग होता है। मनुष्य को बनाने एवं सँवारने में साहित्य का विशेष योगदान होता है। साहित्य अर्थात् सबका हित। ’’साहित्य और समाज एक ही सिक्के के दो पहलू होते है। एक के बिना दूसरे के अस्तित्व की परिकल्पना का कोई अर्थ ही नहीं रह जाता है। साहित्य  उसी रचना को कहेंगे। जिसमें कोई सच्चाई और अन […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 271,580 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Archive for March, 2011

Editorial Column: Good news for Araria

Posted by Sulabh on March 28, 2011

My Dear Friends,

I appreciate your comments especially emotions for the hometown Araria. One good news is –our site is getting around 70-100 visitors per day. I would like to say something as a moderator of this website/blog.

 

# kindly, put only relevant comments under appropriate section/post/pages.

# please avoids repetitive comments as I am seeing many places on this site.

# please avoids personal comments on public pages. For such activities I will setup a login section for private messages.

# Kindly, follow the instructions given by Sir Solyl Kundu. He is one of the most experienced and respected person of our district araria.

# Soon, I will try to attach a separate Discussion Forum for you nice guys. Now I feel that this is highly required in order to make this site organized and should be valuable for all fellow citizens as well as other netizens.

# I will try to launch a separate dedicated website for Araria. (www.arariatoday.com). Very soon I will start to work on design part with the help of any expert web designer.

Meanwhile, keep in touch and you can also contribute any valuable content(if any) relevant to the district. I am waiting something creative from you people J

This year in the month of October-November I will try to organize a big seminar in Araria. Topic would be “IT Business & Management” (Entrepreneurship development in rural, sub-urban, urban areas).

I am writing one another blog may be useful for Indian youth. Here is the url http://sulabhjaiswal.wordpress.com/ visit this and give your valuable opinion in order to boost our country.

For any kind of help I am available via email/phone.

Yours truly

Sulabh

(Passionate to work for Araria)
sulabh.jaiswal@gmail.com

Advertisements

Posted in Editorial, News | Tagged: , | Leave a Comment »