ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • अनोमा नदी
      परम्परागत अनोमा नदी की बदहालीअनोमा नदीवर्तमान आमी नदी का पुराना नाम अनोमा है। अनोमा का मतलब सामान्य होता है। हो सकता है कि इस नदी के सामान्य आकार और स्वरुप के कारण इसका अनोमा जैसा छुद्र नाम रहा हो। छोटी नदी होते हुए भी इस नदी में हमेशा कुछ ना कुछ पानी जरुर रहता है। यह बौद्ध साहित्य में वर्णित एक प्रसिद्ध नदी है। बुद्ध की जीवन-कथाओं में वर्णित है कि सिद्धार्थ […]
      Ashutosh Dubey
    • कथा या सत्यकथा
      कथा या सत्यकथाअक्सर जिसमें एक राजा होता है एक रानी होती है और बात बड़ी पुरानी होती है, समय बिताने के लिए जो सुनानी होती है वो कहानी होती है ।हरीश कुमारराजा बड़ा वीर होता हैप्रजा के प्रति गंभीर होता है शासन का ज्ञान होता हैउसे अपने कुल पर बहुत अभिमान होता है ।काल का चक्र होता है राजा के लिए वक्र होता है सिंहासन  का ध्यान होता है उत्तराधिकारी का भान होता है ।दान […]
      Ashutosh Dubey
    • सहारनपुर के पुरातात्विक स्थल
      सहारनपुर के पुरातात्विक स्थल हड़प्पा कालीन सकतपुर में खुदाई शुरु :- भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण आगरा मंडल के अधीक्षण पुरातत्वविद डा. भुवन विक्रम के अनुसार हड़प्पा कालीन सभ्यता में पहले मेरठ के आलमगीर स्थान को छोर माना गया था, लेकिन सहारनपुर में हुलास और बाड़गांव में मृदभांड मिलने के बाद दक्षिणी छोर पर मौजूद गांव में तांबे की कुठार मिलना एएसआई को आगे की खोज के […]
      Ashutosh Dubey
    • ऊँट और सियार
      ऊँट और सियारओमी ऊँट और सोनू सियार की दोस्ती पूरे ताजपुर जंगल में मशहूर थी। दोनों एक साथ खाते, पीते और रहते थे। उनकी दोस्ती की मिसाल दी जाती थी की इनकी जैसी दोस्ती किसी की नही हो सकती।  लेकिन सारा जंगल दबी आवाज में ये भी कहता था कि सोनू सियार बहुत चालक है और वो कभी भी ओमी ऊँट को धोखा दे सकता है । उनका कहना ठीक भी था इसलिए की सोनू हमेशा से ही ओमी ऊँट की शराफत […]
      Ashutosh Dubey
    • भगवान शिव के अवतार
      भगवान शिव के अवतार हिंदू धर्म ग्रंथ पुराणों के अनुसार भगवान शिव ही समस्त सृष्टि के आदि कारण हैं। उन्हीं से ब्रह्मा, विष्णु सहित समस्त सृष्टि का उद्भव होता हैं। जिस प्रकार विष्णु के 24 अवतार हैं उसी प्रकार शिव के भी 28 अवतार हैं। वेदों में शिव का नाम ‘रुद्र’ रूप में आया है। रुद्र संहार के देवता और कल्याणकारी हैं। विष्णु की भांति शिव के भी अनेक अवतारों का वर्ण […]
      Ashutosh Dubey
    • वो लड़की
      वो लड़की वो लड़कीआजकल बहुत सी  किताबें लिखी जा रही हैं । यह कहना गलत नहीं होगा कि रोज सैकड़ों  किताबों का विमोचन हो रहा है लेकिन किताबों के प्रकाशन की संख्या की तुलना में पाठकों की संख्या घटती जा रही है । इसका यह भी एक कारण हो सकता है कि पाठक किताबों से खुद को जोड़ न पाना लेकिन हाल ही में प्रकाशित किताब 'वो लड़की' इन सबसे परे है । इस उपन्यास के माध […]
      Ashutosh Dubey
    • आदमखोर तेंदुआ
      आदमखोर तेंदुआआज फिर तेंदुए ने एक आदमी पर हमला किया था। आदमी किसी तरह बच तो गया लेकिन उसके जख्म इतने गहरे थे की उसको ठीक होने में समय लगेगा। इस तेंदुए का हमला अब गाँव वालों पर बढ़ने लगा था। लोग अब आदमखोर तेंदुआघबरा गए थे और शाम होते होते वो अपने घरों में कैद हो जाते थे। अब गाँव वालों ने तेंदुए के डर के कारण अपने बच्चो को स्कूल भेजना बंद कर दिया था। पूरा गाँव ड […]
      Ashutosh Dubey
    • माता - पिता
      माता - पिता हर वो पलजब रोये थे तुमतुमसे कहीं ज्यादा दुखी थे वो रोये थे वो हर वो पल मुस्काते थे जब तुम तुमसे कहीं ज्यादा खुश होते थे वो हँसते थे वो और अब आज ये पल दुखी है वो हँसना भूल गए वो क्यों ....आखिर क्यों !क्योंकि बदल गए हो तुम बदल गए हो तुम !!डॉ प्रमोद कुमार पुरी "मनमौजी " […]
      Ashutosh Dubey
    • नेता की कुर्सी
               नेता की कुर्सीनेता की कुर्सी  ( भाग-१)बढ़ई यहाँ कुर्सियाँ ठीक होने आईंकुछ की उनमें हो गई लड़ाई,कई ने दर्शक भूमिका निभाईकुछ जज बन गईं भाई,पहली बोली -मुझसे दूर हटोमुझें इज्जत और सम्मान दो,मेरे मुकाबलें तुम कुछ नहींजहाँ हो रहोगी वहीं की वहीं,दूसरी बोली-हमसें गुस्सा क्यों?क्या घर से लड़कर आई हो?हम पर क्रोध करना नहींहम भी किसी से कम नहीं,पहली बोली-अकड़कर […]
      Ashutosh Dubey
    • मुच्छो वाला साजन
      मुच्छो वाला साजनविकाश शुक्लाआज पुरे १० साल के बाद ऊचें क्लास की पढाई संग डॉक्टरी कर के गुंजा अपने गांव वापिस लौट कर आई गांव में खबर हर तरफ थीं. सभी मिलने के लिए गूंजा के घर पर आने लगे पर गूंजा शहर की आवोहवा में वो इस कदर लिप्त हो चुकी थी की गांव का माहौल और व्यवस्था उसे रास न आरहा था. एक तरफ तो माँ और बापू से मिलने की ख़ुशी हो रही थी तो दूसरे तरफ शहर सा माहौल […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 204,403 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

शतरंज की दुनिया में गूंजा अररिया के नन्हे उस्ताद सौरभ आनंद का नाम

Posted by Sulabh on July 7, 2012

होनहार वीरवान के होत चिकने पात। इस कहावत को अररिया के नन्हे उस्ताद सौरभ आनंद ने शतरंज की दुनिया में चरितार्थ कर दिखाया है। श्रीलंका के हिक्का दुआ में संपन्न हुए अंतर्राष्ट्रीय एशियन यूथ रैपिड चेस चैम्पियनशिप 12 में भाग लेकर तीन गोल्ड मेडल हासिल कर पूरे भारत में बिहार के अररिया की सोंधी माटी की महक फैला दी है।

Junior Chess Champs with Araria SP Lande

घर लौटने पर इस अंतर्राष्ट्रीय चैंपियन को हर कोई गले लगा रहा है। रेणु की माटी के इस सपूत ने श्रीलंका के हिक्कादुआ में 25 जून 12 से एक जुलाई 12 तक संपन्न हुए तीन खेल में भाग लिया। जो चाया ट्रांज होटल हिक्कादुआ में खेला गया। इस खेल में विश्व के आस्ट्रिया, मलेशिया, मालद्वीप, यूएई, फिलीपीन्स, बंगलादेश, इरान, इराक, चीन, वियतनाम, श्रीलंका, कजाकिस्तान व भारत समेत 19 देशों के कुल 29 चेस खिलाड़ियों ने अपने देश का प्रतिनिधित्व किया। जिसमें भारत की ओर से खेल रहे नन्हे उस्ताद सौरभ आनंद (बिहार), तामिलनाडु के चेन्नई निवासी एलएनराम अरविंद तथा आंधप्रदेश के राहुल श्रीवास्तव ने भाग लिया। अंदर टेन के इस चेस चैंपियनशिप में सौरभ ने चैंपियन बन पहला स्थान प्राप्त कर तीन-तीन गोल्ड मेडल समेत प्रशस्ति पत्र प्राप्त किया। इस खेल के आयोजन समिति के चेयरमेन, चेस फेडरेशन आफ श्रीलंका के हानी सेक्रेटरी तथा कामन वेल्थ चेस एसोसिएशन के जेनरल सेक्रेटरी समेत जोन- 3, 2 एक आईडीई के प्रेसिडेंट रहे लक्ष्मण बिजे सूरिया तथा चीफ अखीटोर के डिप्टी प्रेसिडेंट आफ एसीएन फडरेशन के कास्टो अबुण्डो के द्वारा हस्ताक्षरित प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।

इस चेस टूर्नामेंट का आयोजन श्रीलंका के चेस फेडरेशन द्वारा संपन्न हुआ।

भारत के महान शतरंज खिलाड़ी ग्रेण्ड मास्टर विश्वनाथन आनंद को आदर्श मान सौरभ लगातार शतरंज की बुलंदियों पर चढ़ता जा रहा है। इससे पूर्व भी इसने पा‌र्श्वनाथ कामनवेल्थ चेस चैंपियनशिप 2010 अंदर आठ में मेडल हासिल किया था। जहां कामनवेल्थ के सदस्य देशों के 311 खिलाड़ियों ने भाग लिया था। जो नई दिल्ली में 18 मई 10 को संपन्न हुआ। इस खेल में भी विश्व के पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, बंगलादेश आदि के खिलाड़ी शामिल थे। इससे पूर्व सौरभ ने नेपाल के काठमांडू में खेले गए टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। श्रीलंका में तिलकरत्‍‌ने, जी एच गुलवर्दना तथा डेनुवान जी एच को द्वितीय तथा ईरान देश के डेरा काशमी बोना, तोफानी कोरक तथा गोसामी उर्मी महाडी को तीसरे स्थान पर रहे। सौरभ अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता समेत दैनिक जागरण को देते कहते हैं कि दैनिक जागरण अखबार को अपना मान चुके सौरभ आनंद समेत इनके बड़े भाई कुमार गौरव तथा पांच वर्षीय नन्हीं बहन गरिमा गौरव को पूर्व से इस अखबार से अपनत्व रहा है। सौरभ के पिता देवनंदन दिवाकर तथा माता कादंबरी देवी तथा हर दम साथ रहे चाचा रविन्द्र कुमार इस नन्हें उस्ताद के उपलब्धि पर फूले नहीं समा रहे हैं। कहते है तंगहाली के बावजूद वे अपने लाडले को यथा संभव उत्साहित तो करते हैं लेकिन सरकार व प्रशासन समेत समाजिक संगठन इस ओर उदासीन है।

घर वापस होने के पूर्व सौरभ सर्व प्रथम अररिया स्थित महा काली मंदिर जाकर पूजा अर्चना किये तथा पुजारी नानू दा ने उन्हें चुनरी भेंट कर सफलता का आर्शीवचन दिया। घर लौटने पर लोगों के साथ एसपी शिवदीप लांडे ने नन्हें उस्ताद को बधाई दी।

(स्रोत: जागरण समाचार)

Advertisements

6 Responses to “शतरंज की दुनिया में गूंजा अररिया के नन्हे उस्ताद सौरभ आनंद का नाम”

  1. SNEHA KIRAN said

    शाबास सौरभ , हम सभी को तुम पर गर्व है,पर इस सफलता को अंतिम मत समझना , अभी सफ़र तो बस शुरू हुआ है. ढेर सारी शुभकामनाओ के साथ – स्नेहा किरण , रानीगंज , अररिया

  2. SNEHA KIRAN said

    तुम्हारी ये सफलता हर बच्चे की प्रेरणा है.

    ” नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
    चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
    मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
    चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
    आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
    कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।”

    तुम्हारे लिए पुरे अररिया जिलावासियो की तरफ से –
    हम अशक्त बड़े , है दूर पड़े , / क्या भेंट करे उपहार..?
    संतोष इसी से कर लो बस ,/ सौ-सौ बार हमारे उदगार ”
    ढ़ेर सारी शुभकामनाओ के साथ
    स्नेहा किरण
    रानीगंज , अररिया
    CONTACT-
    Mrs. SNEHA KIRAN
    ” N.T.P.C.- FARAKKA ”
    Field Hostel Complex

    F.H.C.- 231 ( C-TYPE, 1st Floor )

    POST- NABARUN
    DISTT.- MURSHIDABAD ( WB )
    PIN- 742236
    email- snehakiran2006@gmail.com

  3. Gopal Kumar Mandal said

    apko bahut bahut badhai apne jile ka nam roshan kiya hai,shubhkamnao ke sathh
    GOPAL KUMAR MANDAL
    Agriculture Officer at Bank Of India
    Koimbatore, Tamilnadu

  4. rupesh sah said

    well done saurabh.
    its a start ….to be continued.
    Wishing you well.

  5. Sulabh said

    News update:
    शतरंज के विश्व पटल पर भारत समेत जिला का नाम रोशन कर रहे अररिया के दो नन्हें उस्ताद को 29 अगस्त को एक बार फिर पटना में आयोजित होने वाले खेल सम्मान समारोह 12 में भाग लेने के लिये चयन किया गया है। जहां उन्हें सम्मानित व पुरस्कृत किया जायेगा। इससे अररिया वासियों में हर्ष व्याप्त है।
    अधिवक्ता देवनंदन दिवाकर के गोल्ड मेडलिस्ट पुत्र सौरभ आनंद तथा उनके सगे भाई गौरव का चयन शतरंज खेल में अंतर्राष्ट्रीय सामान्य कोटि में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए किया गया है। बिहार के कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के राज्य खेल प्राधिकार द्वारा जारी सूची में इन दोनों नन्हें उत्साद का नाम दर्ज किया गया है। उन्हें आगामी 29 अगस्त को श्री कृष्ण मेमोरियल हाल, पटना में पुरस्कृत सह सम्मानित किया जायेगा। इससे पूर्व भी वर्ष 2011 में ये दोनों भाईयों इस तरह के समारोह में सम्मानित हो चुके हैं। 29 अगस्त 2011 को खेल दिवस के दिन बिहार के मुख्य मंत्री नीतीश कुमार के हाथों गोल्ड मेडिलिस्ट सौरभ आनंद तथा उनके बड़े भाई कुमार गौरव को क्रमश: 51 हजार तथा 21 हजार राशि के चेक समेत प्रशस्ति पत्र प्राप्त हुआ था।
    अपने देश के लिये समर्पित सौरभ आनंद ने श्रीलंका के हिक्का दुआ समेत अबतक चार गोल्ड मेडल हासिल कर भारत का मान बढ़ाया है। सौरभ ने व‌र्ल्ड चैंपियन बनने की तमन्ना संजो रखी है।

  6. anshuman bharti said

    पढकर बहुत अच्छा लगा। बिहार के इस पिछडे इलाके से इस होनहार बच्चे की सफलता पर हार्दिक बधाई।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: