ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • मच्छरों के प्रकोप के लिए पत्र
      मच्छरों के प्रकोप के लिए पत्रLetter format to the Municipality to drive away mosquitoes from your areaसेवा में ,स्वास्थ्य अधिकारी महोदय ,नगर निगम , इलाहाबाद।महोदय ,मैंने अपने इस पत्र के माध्यम से आपका ध्यान अपने इलाके की तरफ आकृष्ट करना चाहता हूँ जहाँ मच्छरों के प्रकोप से साधारण लोगों का जीवन दूभर हो गया है।शाम को फुट पाठ पर दुकान लगाने वाले गरीब दुकानदार इन […]
      Ashutosh Dubey
    • बदलाव
      बदलाव समय की घड़ी में  समय भी समयानुसार नहीं चलता वह बदल देता है दिशा अपनी तनिक देर में कुछ इस तरह जैसे बड़बड़ा कर  बदल जाती है जीभ और जो घुस जाती है  तपाक से भीतर मुहं के समय बदल देता है दुःख को सुख में  सुख को दुःख में रोते को हँसा देता है, हँसते को रुला देता है और तो और लगे हाथ छोटों से बड़ों को पिटवा भी देता है वह बना देता है रंक को राजा राजा को रंक समय घुल […]
      Ashutosh Dubey
    • रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के पत्र 
      रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के पत्र Indecent behaviour of Railway staffसेवा में , प्रभाग अधीक्षक ,उत्तर रेलवे,इलाहाबाद - ११ विषय - रेलवे कर्मचारी के अभद्र व्यवहार के सम्बन्ध में।  महोदय , आपको सूचित करना चाहता हूँ कि गत ११ दिसम्बर को मैं इलाहाबाद से फैज़ाबाद से चलने वाली साकेत एक्सप्रेस से फैज़ाबाद जा रहा था।  मुझे बड़े खेद के साथ बताना पड़ रहा  है कि मार्ग […]
      Ashutosh Dubey
    • बोर्ड परीक्षा का पहला दिन
      बोर्ड परीक्षा का पहला दिनहालांकि मैंने घड़ी में सुबह पांच बजे का अलार्म सेट कर दिया था किन्तु मुझे अलार्म की प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ी।  मैं सूर्योदय होने से पहले ही सोकर उठ चुका था।  ऐसा इसीलिए नहीं हुआ कि मैं चिंता या तनाव में था बल्कि मैं उत्तेजना और रोमांच का नौबाहु कर रहा था। मैं उठकर सुबह की ताज़ी हवा में साँस लेने  बालकनी में गया।  मैंने पिछली रात को काफी […]
      Ashutosh Dubey
    • मरते तो हम भी है रोज
      मरते तो हम भी है रोज हर तहरीर एक कयायत नही होती !हर रखी हुई चीज अमानत नही होती !!बेबसी की जुबां में जवाब के कितनें लफ्ज हैं,वरना हर खामोशी शराफत नही होती !!तस्वीरों में क्या साज क्या सज्जा है दिलकश,हर आंखों की मासुमियत नही होती !!मरते तो हम भी है रोज इल्म के जहर से ,लेकिन हर मौत की शोहरत नही होती !!जलते है चिराग भी जलते है घर भी ,मगर हर शमां की खासियत नही हो […]
      Ashutosh Dubey
    • इंडियन काफ़्का
      इंडियन काफ़्का मैं हूँ , कमरा है , दीवारें हैं , छत है , सीलन है , घुटन है , सन्नाटा है और मेरा अंतहीन अकेलापन है । हाँ , अकेलापन , जो अकसर मुझे कटहे कुत्ते-सा काटने को दौड़ता है । पर जो मेरे अस्तित्व को स्वीकार तो करता है । जो अब मेरा एकमात्र शत्रु-मित्र है ।        खुद में बंद मैं खुली खिड़की के पास जा खड़ा होता हूँ । अपनी अस्थिरता का अकेला साक्षी । बाहर ए […]
      Ashutosh Dubey
    • औरत क्या है
      औरत क्या है औरत कांच की सतह की तरह,पारदर्शी है औरतइसमें आप देख सकते है अपना प्रतिबिम्ब।जितना अधिक प्यार से इसे पोछेंगे उतनी अधिक चमकदार आपका प्रतिबिम्ब होगा एक औरत के अंदर आप छुपे होते हैं विभिन्न रूपों में। आपकी छवि उसकी लज्जा के अंदर है अगर आप जिद से इसे एक दिन तोड़ते हैं, तो आपकी छवि हज़ार टुकड़ों में बिखर जाएगी और फिर लाख कोशिश के बाद भी उस मोहक प्रतिबिम्ब […]
      Ashutosh Dubey
    • उस दिन
       उस दिनआज होता इस रिश्ते का भी कोई नामअगर उस दिन न होता मुझसे वह काम गलती थी मेरी बस इतनी किया था तुझपे विश्वासबार-बार मन के न कहने पर भीचली गयी तेरे साथहुई उस दिन मैं बदनामतृष्णा सागरदिया बेवफा सबने मुझको नाम ।आज होता इस रिश्ते का भी कोई नामअगर उस दिन न होता मुझसे वह कामबता सबको वफ़ा तो तूने भी न निभाईकिया हमारे रिश्ते को आमजिसे रखना था दिल मे संभाल किया उसे […]
      Ashutosh Dubey
    • बेटी का भविष्य
      बेटी का भविष्यनंदनी आज खाने में क्या है?जोरो की भूख लगी है।नमन ने कुतुहलवश पूछा।तुम्हारी ही पसंद की सारी चीजें हैं नमन, नंदनी ने कहा।खाना खाते ही नमन ने कहा वाह! मजा आ गया। नंदनी मैंने पहले भी कहा अभी भी कहूँगा तुम्हारे हाथों में जादू है। जो भी बनाती हो लाजवाब,जो भी खाए बस खाता जाए।नंदनी ने बीच मे टोकते हुए कहा नमन सोचती हूँ टिफ़िन का काम कर लूँ। हर साल कितने […]
      Ashutosh Dubey
    • शब्दों को कुछ कहने दो
      शब्दों को कुछ कहने दोशब्द का अहसास चीख कर चुप होता है ।उछलता है मचलता है औरफिर दिल के दालानों में पसर कर बैठ जाता है।भावों की उफनती नदी जब मेरे अस्तित्व से होकर गुजरती है।तो शब्दों की परछाइयांतुम्हारी शक्ल सी बहती है उस बाढ़ में।ओस से गिरते हमारे अहसासशब्दों की धूप में सूख जाते हैं।चीखती चांदनी क्यों ढूंढती है शब्दों को।सूरज सबेरे ही शब्दों की धूप से कविता बु […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 239,850 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Archive for the ‘Entertainment (मनोरंजन)’ Category

Salil Kundu – A great magician (जादूगर सलिल कुंडू)

Posted by Sulabh on July 31, 2010

Salil Kundu (Magician)

मनोरंजन के क्षेत्र में भी अररिया ने विश्व को एक अनोखा व्यक्तित्व दिया है. आइये आज बात करते हैं अररिया की धरती से जुड़े एक शख्स सलिल कुमार कुंडू का जो आज महान जादूगर Magician Solyl Kundu के नाम से विख्यात हैं.

जादूगर सलिल पहले भारतीय जादूगर हैं जिन्होंने Magic Castle, Hollywood(हॉलीवुड) में जुलाई 2009 के दौरान प्रदर्शन किया.

Solyl Kundu

Salil Kumar Kundu – A great magician
Close Up, Stage and Childrens Magic

सलिल कुमार कुंडू,  आईबीएम (यूएसए) के क्षेत्रीय उप अध्यक्ष(भारत -N) हैं. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जादूगर Solyl Kundu के नाम से जाने जाते हैं. कोलकाता (Calcutta) के रहने वाले श्री कुंडू ने 1973 से भारत भर में और विदेशो में प्रदर्शन किया है.  वे वयस्कों और बच्चों के लिए, निजी पार्टियों में, क्लब और मंचों, रेस्तरां, बिक्री पदोन्नति, सम्मेलनों, और व्यापार सभाओं में प्रदर्शन कर चुके हैं.  वह समूह के लिए कम से कम तीन और अधिक से अधिक तीन हज़ार के साथ काम कर चुके हैं. वयस्क उनकी प्रशंसा और बच्चे उनके जादू को प्यार करते हैं.

पता: C-4, # 16, Karunamoyee, Salt Lake City, Kolkata, Sech Bhavan
Advertisements

Posted in Entertainment (मनोरंजन), Famous Personality | Tagged: , , | 6 Comments »

“रंगारंग कवि सम्मलेन सह मुशायरा” आयोजक – सुलभ सतरंगी

Posted by Sulabh on August 20, 2009

स्वतंत्रता दिवस की शाम है और आज हम कवियों को कुछ विशेष आज़ादी है…(क्षमायाचना सहित )

हर साल तरह 15 अगस्त की ये शाम खुशनुमा है. दिन भर के विभिन्न कार्यक्रमों में भागीदारी के बाद अब कवियों, शायरों, व्यंग्यकारों की बारी है. आज उनको भरपूर आजादी है वे अपने अपने तरीको से इस महफिल को परवान चढाये. मंच संचालन कर रहे हैं युवा हास्य कवि सुलभ जायसवाल “सतरंगी”

सबसे पहले स्वागत है हमारे बुजुर्ग शायर जनाब शम्स जमाल साहब. (वयोवृद्ध शायर है – जोरदार स्वागत तालियों से)

@शम्स जमाल:

नौजवानी में हम बेहद इन्किलाबी हुए
अपने उसूलों पर जीये और आफताबी हुए
कांपती हाथो से चरागा लेकर, आज हम
एकबार फिर अपने शहर में किताबी हुए.

अगले कवि हैं श्री कमला प्रसाद बेखबर – “सर्वप्रथम सभी आगंतुकों को ६२वि वर्षगाँठ की शुभकामनाएं.”

@कमला प्रसाद बेखबर:

एक तरफ आजादी के ढोल नगारे हैं
वहीँ सीमा पर दहशत के नज़ारे हैं.
हम भी कहाँ सुरक्षित अपने गृहस्थी में
महंगाई के आगे फिर से हारे हैं.

*

(माहौल में हास्य रस घोलने आ रहे हैं – रहबान अली राकेश )

@रहबान अली राकेश:

मैं टीचर हूँ  अक्सर  इलेक्शन में जाता हूँ
पुलिस और संगीन के साये से मैं घबराता हूँ.

अपने मोहल्ले के साथियों को मतदान के नियम समझाता हूँ.
शिक्षा का हुआ कितना नुकसान
यह भी साथ में गिनाता हूँ.

चुनावी ड्यूटी और ओवरटाइम करके ही मैं पिकनिक के पैसे जुटाता हूँ.
मैं टीचर हूँ  अक्सर  इलेक्शन में जाता हूँ.

*

अगले शोरायकराम हैं – हारून रशीद ‘गाफिल’ अपने आँचलिक भाषा और परिचित अंदाज़ में –

@हारून रशीद ‘गाफिल’:

सुनह सुनह हो गाफिल भै,
इक दिन गेलाह हम्मे बम्बई
पहुँचते साथ भेलै ठगई
स्टेशन पर लेलकै हमरा से जुर्माना
मुंबई का टिकट दिखाओ तो जाना
कहलकै आल इंडिया पास नहीं चलेगा
मराठा परमिट नया लगेगा

की की बतैहयों तोहरा के आज
वहां चलै छै ठाकरे राज
भर दिन देत रहै छै गाली
घुमै छै ओकर साथ गुंडा मवाली

ना बुझै छै केकरो इंसान
बांटे पर लागल छै
फेर से हिन्दुस्तान   kavi-Sammelan-Araria

ऐसन नेता पर मुकदमा चलाओ
तब जाके सभै आजादी मनाओ  ||

*

अगले शायर हैं – जनाब मो. ताहा खामोश

@ताहा ‘खामोश’:

“सिर्फ एक शेर पढूंगा”

अपनी ग़ज़लों में रवानी और मैं कहाँ से लाऊं
बूढी हड्डियों में जवानी और मैं कहाँ से लाऊं
हर वो लम्हा याद है जब थे तुम तसकीने-हयात
तुमपे लुटाने को जिंदगानी और मैं कहाँ से लाऊं ||

*

जनाब हारून रशीद ने पुकारा है युवा कवि सुलभ सतरंगी को –

@सुलभ सतरंगी:

“अपनी विदेश नीति पर काफी क्षुब्ध हूँ…”

सन 62 का चीन लिखूं या आज 62वां हिन्दुस्तान लिखूं.
सन सैतालिस से धोखा खाते कितना पाकिस्तान लिखूं.
हिंदी-चीनी भाई-भाई, कह कर पीठ में छुरा घोपा
अरुणाचल पर अतिक्रमण या कश्मीर में कब्रिस्तान लिखूं.

*

अगले शायर हैं – मदन लाल ‘नश्तर’

@मदन लाल ‘नश्तर’ :
देखना है तो दौर-ए-तरक्की में दाग देखो
जम्हूर के बादलों से टपकता आग देखो
दूर तक फैली रौशनी मगर जेहन में अँधेरा है
अपने मकाँ में आग लगाये खुदगर्ज चराग देखो

(आगे जारी…)

Posted in Entertainment (मनोरंजन) | Tagged: , , | 3 Comments »