ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • चंद्रशेखर आजाद - भारत का बेटा
      चंद्रशेखर आजाद - भारत का बेटा(एकांकी)पण्डित चन्द्रशेखर 'आजाद' 23जुलाई 1906 - 27 फ़रवरी 1931) ऐतिहासिक दृष्टि से भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के स्वतंत्रता सेनानी थे। वे पण्डित राम प्रसाद बिस्मिल व सरदार भगत सिंह सरीखे क्रान्तिकारियों के अनन्यतम साथियों में से थे। सन् 1922 में गाँधीजी द्वारा असहयोग आन्दोलन को अचानक बन्द कर देने के कारण उनकी विचारधारा […]
      Ashutosh Dubey
    • दिल के दर्द को इस तरह छुपाया मैंने
      दिल के दर्द को इस तरह छुपाया मैंनेयूं गुजरने को तो उम्र गुजर ही जायेगी।गर चैन से गुजरती तो जिन्दगी होती।ळळळदिल के दर्द को इस तरह छुपाया मैंने,कि जैसे दामने दाग छुपाते हैं लोग।ळळळदर्दो गम में अश्क बहाते जब किसी को देखते हैं हमतड़फ कर खुद से कहते हैं, जीने का सऊर नहीं है।ळळळकाश! हमराज बनके कोई हाले दिल सुन ले,आखिर कब तक रखेंगे राज-ए-दिल बसाये दिल मेंळळळराह में […]
      Ashutosh Dubey
    • संस्कारित पीढ़ी
      संस्कारित पीढ़ी से ही समाज-राष्ट्र की उन्नति सम्भव संस्कारित पीढ़ी समाज राष्ट्र को उच्च शिखर पर पहुंचा सकती है। हमें संस्कारित पीढ़ी छोड़ना है। संस्कार शब्द की उत्पत्ति  सम+कृ+ धञ=संस्कार अर्थात कृ धातु के पीछे सभ्यक्यत्व दर्शक उपसर्ग ‘सम व आगे ‘धञ की संधि संस्कारित पीढ़ीसे संस्कार शब्द बना है। गर्भधारण से अंत्येष्टि तक के काल में माता-पिता, गुरुजन तथा पुत्र-पुत् […]
      Ashutosh Dubey
    • दशा और दिशा
      दशा और दिशा   - पाठक को चिन्तन के लिए विवश करती कृति संस्कृत में गद्य काव्य और पद्य काव्य के अतिरिक्त चंपू काव्य होता है, लेकिन हिंदी में गद्य-पद्य को साथ-साथ लिखने का चलन कम ही है | माड़भूषि रंगराज अयंगर ने इस दिशा में प्रयोग किया है | उनकी प्रथम पुस्तक “ दशा और दिशा ” में 33 रचनाएँ हैं, जिनमें 11 गद्य और 22 पद्य हैं | गद्य रचनाओं में 7 लेख और 4 कथात्मक रचना […]
      Ashutosh Dubey
    • किन्नर
      किन्नर किन्नरकिन्नर हूँ समाजों के विद्वेषों को ले जीता हूँमैं ही अपना राम, मैं ही अपनी सीता हूँ।।ब्रह्मा की प्रतिछाया हूँ, कश्यप-अरिष्ट की उत्पत्ति हूँ।बुध, शनि, शुक्र, केतु का अशुभ योग, समझी एक विपत्ति हूँ।अश्वमुखों का पुत्र फिर भी, दोहरे जीवन को जीता हूँ।मैं ही अपना राम, मैं ही अपनी सीता हूँ।।मैं भी पीड़ा का संवाहक, सम्मोहन का स्वामी हूँ।एक दिवस का मेल-अरा […]
      Ashutosh Dubey
    • संगमरमर और रेशमी कपास
      संगमरमर और रेशमी कपासलेखक: विष्णु भाटियाअनुवाद:देवी नागरानी संगमरमर होता है-सख्त और कठोर। उँगलियाँ उलझेंगी, तो छिल जाएँगी, लहुलुहान हो जाएँगी, बेकार में ही दर्द मोल लेंगी। जख्म रह जाएँगे, सूखकर भी नहीं सूखेंगे। मैंने यह दर्द नहीं चाहा, फिर भी संगमरमर से उँगलियाँ उलझा लीं। मेरा भरम भी टूटा। कुछ टूटकर जैसे मेरे भीतर जुड़ गया। संगमरमर न था जैसे रुई थी। बिलकुल रे […]
      Ashutosh Dubey
    • नोटबंदी
      नोटबंदीचारों तरफ मचा हाहाकार नोटबंदी ने किया बेकरारआम-आदमी है परेशान, नोटबंदी ने किया हैरानसमझ नही आता क्या करें  ?नोटबंदीबैंक के आगे लाइन में लगे या एटीएम के सामने रहे खड़ेसुबह शाम चक्कर लगाते ,नोटबंदी के ही गुन गातेसरकार की खूब सरहाना करते, परंतु लाइन में लगते ही सब भूल जातेअपने पैसे निकालने के लिए हो रहे हैरान-परेशानआनेवाले है चुनाव कही उसी का नही तो यह प […]
      Ashutosh Dubey
    • कविता क्या है ?
      कविता क्या है ? हर परमाणु में कविता है,हर कविता विराट का रूप।हर बिंदु में कविता है,सागर है कविता का स्वरूप।ये ब्रह्मांड महाकाव्य है,कविता है इसका आधार।मानवता की अनुभूति का,कविता है अभिव्यक्त विचार।अंधकार में दीप है कविता,भूख में अन्न प्यास में जल।कविता दुख में धैर्य बढ़ाती,विरह में बने मिलन अविचल।कविता है मन भावन परिणय,कविता प्रेम मिलन अभिसार।कविता है दुल्हन […]
      Ashutosh Dubey
    • मन दर्पण
      पुस्तक समीक्षा : मन दर्पणप्रस्तुत रचना संग्रह में लेखक की 65 रचनाएँ हैं जिनमें 5 गद्य एवं 60 कविताओं का समावेश है ।प्रतीत होता है कि कविता लेखक की प्रिय विधा रही है। हर प्रकार के विषय को उनकी सशक्त लेखनी ने स्पर्श किया है।मन दर्पण'रामायण' कविता में महाकाव्य रामायण के सार को चंद पंक्तियों में प्रस्तुत करने का सराहनीय प्रयास है।'मोती' एवं […]
      Ashutosh Dubey
    • भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है ?
      भारतेन्दु का बलिया व्याख्यान - भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है ? आज बड़े आनंद का दिन है कि छोटे से नगर बलिया में हम इतने मनुष्यों को एक बड़े उत्साह से एक स्थान पर देखते हैं। इस अभागे आलसी देश में जो कुछ हो जाए वही बहुत है। बनारस ऐसे-ऐसे बड़े नगरों में जब कुछ नहींभारतेंदु हरिश्चंद्र होता तो हम यह न कहेंगे कि बलिया में जो कुछ हमने देखा वह बहुत ही प्रशंसा के योग […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 236,777 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Application Forms

Rashan Card Application Form >> Download
Land Registration Form >> Download
Advertisements
 
%d bloggers like this: