ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • एक कदम बढा
      एक कदम बढामन कुछ कहती हैहवा कुछ कहती हैशाम ढल गयी हैशमा कुछ कहती हैवक्त चल रहा है ,गति से अपनीचल साथ मेरे ये सुबह कुछ कैहती हैकब-तक खड़ा रहेगा,यूही पड़ा रहेगाक्या तुझे मालूम नही के ये जग तुझपर हँसती हैचल साथ मेरे ये सुबह कुछ कैहती हैनदी की धार बनजासुन्दर फुहार बनजावक्त के रोके-न-रूकेऐसी तेज तलवार बनजाअपना रस्ता खुद बनाखुद में ही संसार बनजावक्त को बहने दे,अपन […]
      Ashutosh Dubey
    • मानवता
      मानवतामानवता अपना ले बंदे।मिट जाएंगे सारे फंदे।प्रभु ने तुझ को जनम दिया है।तुझ पर ये उपकार किया है।जिसने मानवता अपनाई।उसने जीवन का उद्धार किया है।छोड़ के सारे गोरख धंधे।मानवता अपना ले बंदे।मिट जाएंगे सारे फंदे।मानवता है एक सवेरान कुछ तेरा न कुछ मेरा।सब धर्मों से ऊंचा देखोदीन दुखी के मन का फेरा।सेवा के लटका के फुन्दे।मानवता अपना ले बंदे।मिट जाएंगे सारे फंदे।मा […]
      Ashutosh Dubey
    • कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में
      कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन मेंकृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में।राम रतन धुन सजी रे तन में।पांच प्रकार की माटी सानी।जन्म दियो मोहे दिलबर जानी।कृष्णपड़ कर इस माया के चक्कर।काली कर ली चुनरी धानी।कैसे ओढ़ लूं अब इस तन मेंकृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में।राम रतन धुन सजी रे तन में।बीती उमर मौत मंडराई।शिथिल अंग आंखे पथराई।आखिरी समय राम नही निकला।सारी उमर व्यर्थ गवाईं।हंसा चल […]
      Ashutosh Dubey
    • स्वच्छ भारत
      स्वच्छ भारतएक दीप जला दिया हैएक दीप जलाना हैअखिल विश्व से भी सुंदरअपना राष्ट्र बनाना हैबापू जी का था ये सपनासच इसे कर दिखलाना हैस्वच्छ इरादों से हमकोस्वच्छ भारत बनाना हैआओ मिलकर करे नमनकूड़े-करकटों का करे दमनजन जन तक यह संदेश पहुंचाना हैअखिल विश्व से भी सुंदरअपना राष्ट्र बनाना हैबापू जी का था ये सपनासच इसे कर दिखलाना हैस्वच्छ इरादों से हमको स्वच्छ भारत बनाना […]
      Ashutosh Dubey
    • हिन्दी भारत का परिवार है
      हिन्दी भारत का परिवार हैविश्व  मे  भाषाओं  की  ,जब  लगी  थी  मेला ।दूर -दूर  देशों  से  आकर ,बैठे  थे,  गुरु  संग  चेला ।अपने -अपने   धर्म  गंर्थ  की ।कर   रहे  थे  खेला   ।तभि  हिन्दी !  हिन्दू  के  लाला ।पहूँचे  बीर  अकेला   ।बंद्धञ्जिली    कर ,   करि     विनय ।तो  मिली  पल  - भर  की ! उन्हें  समय ।माँ  की   ममता  ! पिता  का  गौरव  !दिखाने  का , अवसर   मिल […]
      Ashutosh Dubey
    • पहचान तुम बनो
      पहचान तुम बनोकोई गीत जो लिखूँवो साज तुम बनो,सपनों कीपरवाज़ तुम बनो,नींद आँखों मे जब-जब आयेवो ख्वाब तुम बनोबात कुछ हो दिल कीअल्फ़ाज तुम बनो,कुछ और कहा माँगा मैंनेजान जाये मुझे जवानापहचान तुम बनो,जब कभी मैजब कभी मै उनरास्तों से गुजरती हूँतुम्हारी याद जरूर आती हैकुछ बातो को मनमें उपजाति हैकभी हम उनरास्तो पे साथ चलते थेमेरी बकबक सेतुम परेसान होजाते फिर मेरीएक मुस् […]
      Ashutosh Dubey
    • तेरा दर्द जो है सीने में
      तेरा दर्द जो है सीने मेंबता दे इक बार तूतेरा दर्द जो है सीने मेंउसका क्या करें?खेल खेलें जो जिंदगी कासमझकर हल्का हल्का ,जीया जो संग हर पलउलझकर तल्खा तल्खा ।बता दे इक बार तूतेरा लहर उठे जो सीने मेंउसका क्या करें?मतलब क्या होता इकरार कासमझ न पाए मगरूर बन,छूरा दामन अपने प्यार काचले उस डगर मशहूर बन।बता दे इक बार तूतेरा जहर फैले जो सीने मेंउसका क्या करें?हलक से न […]
      Ashutosh Dubey
    • नाराज तुम से नहीं
      नाराज तुम से नहींनाराज तुम से नहींखुद से हूँपता है जब तुम कहते हो कीकुछ पाने के लिए कुछ खोनापड़ता तो मेरी रूहकाप जाती हैंअपराधबोध सालगने लगता हैंखोने का डरहर पलहर लम्हाहर वक़्तलगा रहता हैंपता नही क्या है और क्योंहैं पर सच यही हैंमैं भी रोकना चाहती हूँखुद को कदम रूकतेही नही,मेरे दिमाग मे ये बात घूसगयी है निकलती ही नहीकोई इतना स्वार्थी कैसे होसकता हैंअब चाह के भ […]
      Ashutosh Dubey
    • चलना हमारा काम है
      चलना हमारा काम है Chalna Hamara Kaam Hai १. गति प्रबल पैरों में भरीफिर क्यों रहूँ दर दर खड़ाजब आज मेरे सामनेहै रास्ता इतना पड़ाजब तक न मंज़िल पा सकूँ, तब तक मुझे न विराम है, चलना हमारा काम है।कुछ कह लिया, कुछ सुन लियाकुछ बोझ अपना बँट गयाअच्छा हुआ, तुम मिल गईंकुछ रास्ता ही कट गयाक्या राह में परिचय कहूँ, राही हमारा नाम है,चलना हमारा काम है।व्याख्या - कवि कहते […]
      Ashutosh Dubey
    • जन जन की भाषा हिंदी
      जन जन की भाषा हिंदीहिंदी का महत्त्व बताना तो सूरज को दीया दिखाने जैसा है। विश्व-भर में हिन्दी बोलने वालों की विशाल संख्या है। किन्तु हिन्दी को भारत में ही वह स्थान प्राप्त नहीं है जिसकी वह अधिकारी है। यह सच है कि तकनीकी क्रांति के युग में भाषाएँ अपना अस्तित्व खो रही हैं। क्षेत्रवाद भी पनप रहा है। इसके अतिरिक्त विदेशी भाषा अंग्रेज़ी के समक्ष, अपने ही देश में प […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 230,938 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Important Links

Public Interest / Govt. Services

ONLINE APPLICATIONS (BIHAR SARKAR)

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: