ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Dr.Asim Prakash on Doctors, Hospitals in Ara…
    anish shahi on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    Zahid ashraf on Thana in Araria – Police…
    Masoom on Railway Time Table Araria…
    adi sah on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • होली की हार्दिक शुभकामनाएं 2019
      होली की हार्दिक शुभकामनाएं 2019 हिंदीकुंज.कॉम के पाठकों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं होली की हार्दिक शुभकामनाएं 2019 होली की शुभकामनाएं संदेश Holi Wishes 2019 In Hindi Happy Holi Wishes […]
      Ashutosh Dubey
    • परिंदा
      परिंदा  कुछ लिखूं ना लिखूं अपने हालात लिखूगीं किसी से ना कह सकी वो हर बात लिखूगीं । जयति जैन "नूतन" तुम्हें पाने के लिए गुनाह किये हैं बार बार गुनाहों में दबी तुम्हें पाने की इबादत लिखूगीं । तुमसे बार बार मिलने की कोशिशें जारी रखीं तुमसे ना मिल पाने के वो ख्यालात लिखूगीं । रोये बहुत थे एक तेरे रूठ के जाने से उस रोज इंतेजार में गुजारे एक एक दिन रात […]
      Ashutosh Dubey
    • साकेत मैथिलीशरण गुप्त
      साकेत मैथिलीशरण गुप्त  साकेत मैथिलीशरण गुप्त साकेत महाकाव्य साकेत saket maithili sharan gupt - साकेत राष्ट्रकवि मैथिशरण गुप्त का प्रसिद्ध काव्य है .इस महाकाव्य की कथा उर्मिला और लक्ष्मण के संयोग सुख से प्रारम्भ होती है ,फिर वनवास के बाद समाप्त हो जाती है .यह महाकाव्य १२ सर्गों में आबद्ध है .  प्रस्तुत महाकाव्य में कवि का उद्देश्य समष्टिगत कल्याण करना है .इसे […]
      Ashutosh Dubey
    • मैं भी चौकीदार बनाम चौकीदार चोर है
      चौकीदार शब्द पर महासंग्राम मैं भी चौकीदार बनाम चौकीदार चोर है हिंदू काल में इतिहास में दंडधारी शब्द का उल्लेख आता है। भारतवर्ष में पुलिस शासन के विकासक्रम में उस काल के दंडधारी को वर्तमान काल के पुलिस जन के समकक्ष माना जा सकता है। प्राचीन भारत का स्थानीय शासन मुख्यत: ग्रामीण पंचायतों पर आधारित था। गाँव के न्याय एवं शासन संबंधी कार्य ग्रामिक नामी एक अधिकारी द […]
      Ashutosh Dubey
    • मानव
       मानव   मानव...!   रक्तपिपासु मानव...!   हवस का पुजारी मानव...!   ईर्ष्या से ओत-प्रोत मानव...!   आडम्बरयुक्त मानव...!   कबतक ...?   कबतक इन बातों से मानव जगत,   शर्मसार होता रहेगा...?   कबतक मानव, मानव के लिए ख़तरा बनेगा ?   कबतक हिंसा की अग्नि में मानव भस्म होगा ?   कबतक...?  मानव सचमुच बहुत आगे निकल गया है,  इतना आगे कि,  अब ईश्वर के अस्तित्व को चुनौती देन […]
      Ashutosh Dubey
    • कश्मीर हमारा है
      कश्मीर हमारा है  कश्मीर हमारा है 'कश्मीर मांगे आज़ादी ",हिन्दुस्तानियों कश्मीर छोड़ो " और न जाने कितने नारे लगते हुए असलम बट्ट सैनिकों पर पत्थर बरसा रहा था। उसके साथी उसे प्रेरित कर रहे थे। तभी पीछे से आवाज़ आई "जो जितने सैनिकों को घायल करेगा उसको उतने ज्यादा पैसे मिलेंगे " असलम ने पीछे मुड़कर देखा एक अजनबी पांच पांच सौ के नोटों की गड्डि […]
      Ashutosh Dubey
    • रविदास का जीवन परिचय
      रविदास का जीवन परिचय रविदास का जीवन परिचय रैदास का जीवन परिचय guru ravidas biography in hindi रैदास का जीवन परिचय इन हिंदी गुरु रविदास का जीवन परिचय व जयंती Guru Ravidas Biography History - भक्तिकालीन ज्ञानाश्रयी शाखा के संत कवियों में रैदास का महत्वपूर्ण स्थान है .रैदास का दूसरा नाम रविदास भी था .रैदास भी रामानंद जी के प्रमुख शिष्यों में से थे . कबीर के समक […]
      Ashutosh Dubey
    • खुशियाँ लाया प्रभात
      खुशियाँ लाया प्रभात आया प्रभात ,आया प्रभात , जीवन में खुशियाँ लाया प्रभात . निकला पूर्व से सूर्य लाल , जग में फैला नव प्रकाश , उठ गए युवक - वृद्ध - बाल , आया प्रभात ,आया प्रभात . गूँज रहा पंक्षियों का स्वर , बहता शीतल स्वच्छ मंद पवन , खिल उठे फूल सुन्दर - सुन्दर हो गया सुगन्धित घर आँगन . - सोहललाल द्विवेदी  […]
      Ashutosh Dubey
    • अपमान
      अपमान अपमान का घूँट पीकर बच्चों की खातिर, चुप रहती है नारी, समाज में जगहँसाई न हो इस कारण, चुप रहती है नारी, माँ-बाप ने जो संस्कार दिए इस कारण, चुप रहती है नारी, नारी की खामोशी को कमज़ोरी न समझो, दया,वात्सल्य,ममता हथियार हैं उसके, फिर भी घर को बिखरने से बचाने की खातिर, चुप रहती है नारी, अपमान का ....               - रश्मि  श्रीधर  […]
      Ashutosh Dubey
    • झब्बर झब्बर बालों वाले पोयम
      भोले भाले बादल  झब्बर-झब्बर बालों वाले गुब्बारे से गालों वाले लगे दौड़ने आसमान में बादल झूम-झूम कर काले बादल। कुछ जोकर-से तोंद फुलाए कुछ हाथी-से सूँड़ उठाए कुछ ऊँटों-से कूबड़ वाले कुछ परियों-से पंख लगाए आपस में टकराते रह-रह शेरों से मतवाले बादल। कुछ तो लगते हैं तूफानी कुछ रह-रह करते शैतानी कुछ अपने थैलों से चुपके झर-झर-झर बरसाते पानी नहीं किसी की सुनते कुछ भी ढ […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 290,131 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

Important Links

Public Interest / Govt. Services

ONLINE APPLICATIONS (BIHAR SARKAR)

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: