ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Masoom on Railway Time Table Araria…
    Raman raghav on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    parwez alam on Railway Time Table Araria…
    ajay agrawal on Araria at a glance
    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • सोशल मीडिया खट्टे मीठे अनुभव
      सोशल मीडिया  खट्टे मीठे अनुभवसोशल मीडियासोशल मीडिया एक तरह से दुनिया के विभिन्न कोनों में बैठे उन लोगों से संवाद है जिनके पास इंटरनेट की सुविधा है।सोशल मीडिया पारस्परिक संबंध के लिए  इंटरनेट या अन्य माध्यमों द्वारा निर्मित आभासी समूहों को संदर्भित करता है।दुनिया में दो तरह की सभ्यताओं का दौर शुरू हो चुका है, आभासी और वास्तविक  सभ्यता । आने वाले समय में जल्द […]
      Ashutosh Dubey
    • ख़ून
      ख़ून सिन्धी कहानी मूल: भगवान अटलाणी अनुवाद: देवी नागरानी थका हुआ हूँ पर नींद नहीं आती । गाँव के ऊबड़-खाबड़ कच्चे रास्ते पर कुल मिलाकर दो घंटे साइकिल चलानी पड़ी होगी । हड्डी-पसली शिथिल हुई है । चारों तरफ़ अंधेरा है । इस गाँव में बिजली भी तो नहीं है। दूर-दूर तक रोशनी की एक किरण भी नज़र नहीं आती । ऊपर से यह नींद का न आना।   वैसे तो बहुत सारे सेडेट्वि डिसपेंसरी की अल […]
      Ashutosh Dubey
    • ग्लानि
      ग्लानिविजयानंद विजयआज सर्दी कुछ ज्यादा-ही थी। चारों ओर घना कोहरा छाया हुआ था। दिन के दो बज रहे थे।उसकी ट्रेन और दो घंटे लेट हो गयी थी। जाड़े में इन ट्रेनों का तो कोई हिसाब-किताब ही नहीं रहता....! ऊपर से पत्नी की तबीयत...! उसका मन खिन्न हो उठा था। ट्रेन का इंतजार करने के सिवा अब कोई चारा भी नहीं था। ठंड से बचने के लिए वह वेटिंग हॉल में आ गया। जहाँ वह बैठा,वहीं […]
      Ashutosh Dubey
    • इलाहाबाद का नजारा
      इलाहाबाद का नजाराकई शहर तो अपने में मायने रखते हैं लेकिन इलाहाबाद की माटी की खुशबू ही कुछ नया है जिसे इलाहाबाद की खूबियाँ देखनी हो तो उसे इलाहाबाद में आना चाहिये और इसकी सुगंध लेनी चाहिये | जिसकाइलाहाबादजन्म इलाहाबाद की गोद में हुआ है | वह सच्चा इलाहाबादी है | उसके रगों में बहता है इलाहाबाद का साहित्य,यहाँ का दर्शन आकर्षित करता है, यहाँ के खेत खलिहान पेड़ पौ […]
      Ashutosh Dubey
    • मेरा गाँव
      मेरा गाँवभारत की ८५ % जनता गाँवों में रहती है . भारत की सच्ची तस्वीर गाँवों में ही देखी जा सकती हैं . हमारे कवियों ने गाँवों के अत्यंत लुभावने चित्र खींचें हैं . किसी ने उन्हें भारत की आत्मा कहा तो किसी ने देश का ह्रदय - स्पंदन . गाँव का मनोरम वातावरण - भारत के गाँव प्रकृति के झूले हैं . हरे - भरे खेत ,झूमती सरसों ,बरसता सावन ,खुली हवा ,सुगन्धित हवा के झोंके […]
      Ashutosh Dubey
    • सारा आकाश उपन्यास में ठाकुर साहब
      सारा आकाश उपन्यास में ठाकुर साहब समर के पिता ठाकुर साहब एक सह - पात्र के रूप में उपन्यास में आते हैं . ये भी मध्यवर्गीय पात्र का प्रतिनिधित्व करते हैं . वह  स्वभाव से चिड़चिडे हैं . वास्तव में सिमित आय ,अत्यधिक खर्च ,संयुक्त और बड़े परिवार की जिम्मेदारी ने ठाकुर साहब को चिडचिडा बना दिया है . ऐसी हालत में वह समर से आशा करते हैं कि वह नौकरी करके परिवार का बोझ को […]
      Ashutosh Dubey
    • बकिट लिस्ट
      बकिट लिस्टबंसी खूबचंदाणीहां 37 साल कैसे पूरे हो गए, पता ही न चला। पता कैसे नहीं चला? कभी-कभी तो ऑफिस में इतना मानसिक तनाव होता था कि एक दिन भी एक साल की मानिंद लगता था। कई बार तो भाग जाने को जी करता था। पर भागेंगे कहाँ? पत्नी, माँ और दो बच्चों को कौन पालेगा? ‘जीना यहाँ, मरना यहाँ, तेरे सिवा जाना कहाँ।’राजकपूर की फिल्म जोकर के अभिनेता की तरह ही 37 साल बिताए ह […]
      Ashutosh Dubey
    • प्रेम तुम्हारा
      प्रेम तुम्हारानही छुपाना चाहती मैं प्रेमनिशान अपनी उम्र कामेरे बालों की सफेदी सेनहीं है मुझे कोई परेशानी क्या फकॅ पड़ता है अगर मैंदिखने लगू बूढ़ी चाहे झुक जाए मेरी कमर टूट जाए मेरे सब दाँतमेरी ऑखों की रोशनी खो जाएमेरी यादाश्त गुम हो जाएभूल जाउ मै सारी दुनियातुम्हारा प्रेम मेरा रक्षक हैतुम्हारा होना रब का होना!जैसे जीने के लिए जरूरी साँसेंमेरे लिए तेरा प्रेम ह […]
      Ashutosh Dubey
    • मैं फिर चीखा
      मैं फिर चीखाआज मैं अशोक बाबू माहौर फिर चीखा डरावना स्वप्न देखा माँ ने मुझे डाँटाकिन्तु क्या ?हवा थी I सुबह चारों तरफ आवाजें कोलाहल सी मैं निहारता जब तक किसी अजनबी ने मुझे साधा 'क्यों भाई डरे हो सुबह हो गई बस थोड़ा सा झंझावात है I 'मैं ठगाखड़ा करता रहा मन मंथन I रचनाकार परिचय नाम-  अशोक बाबू माहौर जन्म -10 /01 /1985 साहित्य लेखन -हिंदी साहित्य की विभि […]
      Ashutosh Dubey
    • सारा आकाश उपन्यास के नारी पात्र
      सारा आकाश उपन्यास के नारी पात्रसारा आकाश उपन्यास मध्यवर्गीय परिवार का सजीव चित्र प्रस्तुत करता है . इस उपन्यास में नारी पात्रों की मानसिकता भी यथार्थ रूप में प्रस्तुत है . कथाकार ने पारिवारिक हालत के चित्रांकन में आर्थिक सामाजिक परिस्थितियां का चित्र उकेरने में बड़ी सफलता प्राप्त की है . कथा में मर्मस्पर्शीता स्थापित करने तथा मध्यवर्गीय नारी मानसिकता को प्रका […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 207,823 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

News

Local News -ARARIA, FORBESGANJ, PURNIA, KATIHAR, KISHANGANJ

ताजा समाचार – अररिया पूर्णिया कटिहार किशनगंज एवं आस पास

Araria District Local News from Araria Forbesganj and Rural

Purnia district Local News from Purnia and Rural

Katihar district Local News from Katihar and Rural

Kishanganj district Local News from Kishanganj and Rural

 

Local News

 
%d bloggers like this: