ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ

~~~A showery district of north-eastern Bihar (India)~~~ www.ArariaToday.com

  • ARARIA FB LIKE

  • Recent Comments

    Tausif Ahmad on Railway Time Table Araria…
    aman on Thana in Araria – Police…
    anjani kumar verma on Sri Sri 108 Mahakali Mandir…
    gopal kumar mandal on अररिया फुटबॉल का एक युग समाप्त…
    Click Katihar on श्री नीतीश कुमार (माननीय मुख्य…
    tarejalam on Chemist requires at NPK fertil…
  • स्थानीय समाचार Source Araria News

    http://rss.jagran.com/local/bihar/araria.xml Subscribe in a reader
    Jagran News
    Local News from Kishanganj, Purnia and Katihar
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य - कविताओं, ग़ज़लों और संस्मरणों के माध्यम से
    इन्टरनेट पर हिंदी साहित्य का समग्र रूप Saahitya Shilpi
    चिटठा: यादों का इंद्रजाल


    मैंने गाँधी जयंती पर एक संकल्प लिया! आप भी लें. यहाँ पढ़े
  • Recent Posts

  • Historial News towards Development

    (ऐतिहासिक क्षण ) # Broad Gague starts at Jogbani-Katihar Rail lines. रेलमंत्री द्वारा हरी झंडी दिखाने के साथ ही नयी लाइन पर जोगबनी से कोलकाता के लिये पहली रेल चल पड़ी। # Thanks a ton to Railway deptt.
  • RSS Hindikunj Se

    • हमला / सुशांत सुप्रिय की कहानी
      बाईसवीं सदी में एक दिन देश में ग़ज़ब हो गया । सुबह लोग सो कर उठे तो देखा कि चारो ओर तितलियाँ ही तितलियाँ हैं । गाँवों , क़स्बों , शहरों , महानगरों में जिधर देखो उधर तितलियाँ ही तितलियाँ थीं । घरों में तितलियाँ थीं । बाज़ारों में तितलियाँ थीं । खेतों में तितलियाँ थीं । आँगनों में तितलियाँ थीं । गलियों-मोहल्लों में , सड़कों-चौराहों पर करोड़ों-अरबों की संख्या म […]
      Ashutosh Dubey
    • पुरस्कारों की होड़ में उलझा साहित्य
      ‘’ पुरस्कारों की होड़ में उलझा साहित्य ’’~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~जीवन तथा समाज की तमाम गतिविधियों को समेट कर अपने उत्तरदायित्व के रूप में सामाजिक चेतना के लिए सन्देश के स्त्रोत में सर्जित करना एक साहित्यकार की लेखनी के जिम्मे होता है जहाँ से मानवीय सम्वेदनाओं एवं चेतनाओं को झंकृत करने वाले साहित्य की अलकनन्दिनी धारा जन-जन तक पहुँच पाठकों के ह्रदय तन्तुओं क […]
      Ashutosh Dubey
    • भूखी माँ, भूखा बच्चा
      भूखी माँ, भूखा बच्चा मेरे नन्हे, मिरे मासूम मिरे नूरे-नज़रअली सरदार जाफ़रीआ कि माँ अपने कलेजे से लगा ले तुझकोअपनी आग़ोशे-मुहब्बत में सुला ले तुझकोतेरे होंटों का यह जादू था कि सीने से मिरेनदियाँ दूध की वह निकली थीछातियाँ आज मिरी सूख गयी हैं लेकिनआँखें सूखी नहीं अब तक मिरे लालदर्द का चश्म-ए-बेताब रवाँ है इनसेमेरे अश्कों ही से तू प्यास बुझा ले अपनीसुनती हूँ खेत […]
      Ashutosh Dubey
    • लिंग और हिंदी व्याकरण
      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); लिंग और हिंदी व्याकरणजाने कब से, पुरुष वाचक शब्द साधारणतः दोनों लिंगो – नर व नारी के लिए उपयुक्त होते हैं. किंतु नारी विशेष को इंगित करने के लिए स्त्री लिंगी शब्दों का प्रयोग जरूरी होता है ऐसा देखा गया है. समाज की वस्तुओं को नर नारी संदर्भ में जिस तरह बाँटा गया है. तदनुसार ही भाषा में (वाक्य में) उन वस्तुओं […]
      Ashutosh Dubey
    • माँ का आंचल बहुत याद आया
      बहुत खूबसूरत शहर मे भी रहकेयोगेश पाण्डेयमेरा गॉव मुझको बहुत याद आयाबहुत ही हँसी है यहां का ये मौसममगर माँ का आंचल बहुत याद आयापहन के उतारन,बिताया है बचपनअभावों मे अब तक,गुजारा है जीवनजरूरत मेरी पूरी करने की खातिरमाँ का संघर्ष करना बहुत याद आयाबहुत ही हँसी है यहां का ये मौसममगर माँ का आंचल बहुत याद आयावो चिमटे की खन-खन,वो चौकी वो बेलनवो थोड़ा-सा गुस्सा,वो थोड […]
      Ashutosh Dubey
    • और समय का पहिया रात में
      डॉ. हर्षवर्धन सिंह की कविताएँ (1)चेहराऔर समय का पहिया रात मेंडॉ. हर्षवर्धन सिंहसोता नहीं दौड़ता हैसुबह उठता हूँहर दिन एक नया चेहरा देखता हूँआईने मेंये कौन है ?मैं या कोई औरदीवारें वही हैंऔर कालीन का दाग भी वहीहम,  जो घरों में कालीन  बिछाते हैंनंगी फर्श पर चलने से छीलते हैंहर सुबह अपने चेहरे पर नया  दाग पाते हैंऔर जब घर से लीपापोती कर बाहर निकलते हैंतो हर इंसा […]
      Ashutosh Dubey
    • कहानी सरहद की
      कहानी सरहद की                                                                             ‘सरहद पर तैनात जवानों के सामने प्रकृति की खुली किताब होती है जिस पर ईश्वर की इबारत शायद विश्व के सभी ग्रंथों से ज्यादा जीवन को पवित्रता संपन्न कराने की क्षमता रखती है।  मेरे साथी ने उत्तर-पश्चिम सरहदों का नजारा देखकर यह कहा था। उसने प्रश्न किया था, ‘यह सरहद यहाँ आकर रुक […]
      Ashutosh Dubey
    • पढ़ें और गुने
      पढ़ें और  गुने                 जस्टिस आशुतोष मुखर्जी  ( कोलकता ) एक  सरल  व्यक्ति थे . वे  स्वयं अध्ययन रत  रहते थे और  देश  के प्रसिद्ध विद्वानों  को  कोलकता  विश्वविद्यालय  बुलाते थे . एक  बार एक  अंग्रेज उनके  घर  आए . उसने  मुखर्जी  दा  से  पूछा कि  क्या  आप  की  मां  शिक्षित हैं ,जवाब में   उन्होंने  जो  कहा  कि  “  मेरी  मां अशिक्षित   हैं , लेकिन   विद […]
      Ashutosh Dubey
    • वक्त का कहर ( हिंदी लघु कथा )
      मुझे नहीं पता इन मासूमों पर वक्त इतना कहर ढायेगा ।  उन्हें रोने पर मजबूर कर देगा .         मैं रास्ते से गुजर ही रहा था कि पास वाले गाँव से रोने की आवाज।  मैंने धैर्य साधा और गाँव में घुस गया।  दो तीन बच्चे कौने में बैठे दुबले पतले ,उनके माँ बाप खड़े दीवाल के सहारे रोये जा रहे हैं।        "आप लोग क्यों रो रहे हो ?" मैंने पूछा।         "रोये नही […]
      Ashutosh Dubey
    • मंजुला पद्मनाभन
      मंजुला पद्मनाभन, जिसने वसूलों से नहीं किया कभी समझौता मूललेख डाक्टर मृणाल चटर्जीअंग्रेजी से हिंदी अनुवाद इतिश्री सिंह राठौरकार्टून को कला का नतीजा माना जा सकता है. कार्टून चरित्र सुकी को घर-घर पहुंचाने वाली मंजुला पद्मनाभन को देखने के बाद रविशंकर ने यह उल्लेख किया था. भारत कार्टूनिंग की दुनिया में पुरुषों का दबदबा रहा. कुछ महिलाओं ने इस कला में अपने हाथ आजमा […]
      Ashutosh Dubey
  • Month Digest / अभिलेखागार

  • Total Visits

    • 142,810 hits
  • Follow ARARIA अररिया ﺍﺭﺭﯼﺍ on WordPress.com

MLA, MP from Araria and Opinion Poll

Posted by Sulabh on December 11, 2008

Members of Legislative Assembly (MLA)

Data as per Bihar State Assembly Election November 2005

Name of Constituency           Name of Hon. Member                      Party
 
(127)  RANIGANJ (S.C.)        Shri Ramji Das Rishidev                        BJP
 
(128)  NARPATGANJ           Shri Janardan Yadav                              BJP
 
(129)  FORBESGANJ            Shri Laxmi Narayan Mehta                  BJP
 
(130)  ARARIA                       Shri vijay kumar Mandal                     LJP
 
(131)  SIKTI                            Shri Murli Dhar Mandal                      JDU
 
(132)  JOKIHAT                     Shri Manzar Alam                                JDU

Member of Parliyament (MP)

Data as per General Election 

Name of Constituency           Name of Hon. Member                      Party
 ARARIA                                  Mr. Taslim Uddhin                              RJD (May 2014 – )
ARARIA                                   Shri Pradip Singh                                BJP (May 2009 – May April 2014)

——————————————————————————————-

Give your opinion in order to development of Araria district.

[polldaddy poll=”1186625″]

Posted in Administration | Tagged: , , | 3 Comments »

ए-टीम ग्राउण्ड अररिया: जहाँ फुटबॉल का अमिट अध्याय अंकित है

Posted by Sulabh on March 17, 2015

जिला मुख्यालय स्थित नेताजी सुभाष स्टेडियम जो कभी ए-टीम ग्राउंड के नाम से विख्यात था हमें याद दिलाता है बीते छः सात दशक में हुए कुछ ऐतिहासिक टूर्नामेंट्स और समर्पित खिलाड़ियों की। बीसवीं शताब्दी मे अररिया की रत्नगर्भा माटी ने विभिन्न कालखण्डों मे कुछ कर्मठ खिलाड़ियों को जन्म दिया। तात्कालीन समाज मे व्यायाम, शारीरिक शौष्ठव और क्रीडा के प्रति अनुशासन व लगन के परिणामस्वरूप अररिया टाउन क्लब अस्तित्व मे आया। मुख्य रूप से फुटबॉल खेल स्थानीय लोगों के मनोरंजन का माध्यम बना जिसमे क्लब के कुछ उत्कृष्ट खिलाड़ियों एवं अन्य समर्पित प्रबन्धक सदस्यों ने अररिया सब डिवीजन मे फूटबाल को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतिष्ठा दिलाई.
उन्नीस सौ साठ के दशक में अररिया में ए-टीम के साथ साथ दर्जन भर जूनियर टीमें खेला करते थे. सन 1963 में अनुमंडल अधिकारी रन बहादुर सिंह जी एवं आयोजकों ने फुटबॉल मैचों में आम लोगों की अभिरुचि को देखते हुए मोहम्मडन स्पोर्ट्स क्लब और अररिया स्पोर्ट्स क्लब के खिलाड़ियों का समागम किया। उन दिनों जौर्ज टेलीग्राफ, चुवेदों क्रिस्टोफर, की टीमो दौरा अररिया मे हुआ। 1984 मे पूर्व के वरिष्ठ और जोशीले खिलाड़ियों के नाम पर चार गेट का निर्माण कराया गया. स्टेडियम के उत्तर दिशा में मुख्य नोनी द्वार, डाक बँगला छोड़ पर नेती द्वार, पूरब में कबीर द्वार और पश्चिम छोड़ पर समद द्वार क्रमश: नोनी सेन, नेती यादव, कबीर उद्दीन और सैयद अब्दुस समद की स्मृति में चिन्हित है. महान खिलाड़ी समद को बंगाल में फ़ुटबाल जादूगर के रूप में जाना जाता है.

 

हीरा बाबू, नोनी सेनगुप्ता, भोला बाबू, नेपी सेनगुप्ता, राम चंद्र (गोलकीपर),  कबीर उद्दीन, अब्दुल हफीज उर्फ पहाड़ी जी, प्रदूभन सिंह (हेड मास्टर), मीर एनुल हक़ उर्फ समधी जी, सुरेश ठाकुर, माणिक दा, मोहम्मद साहेब इत्यादि खिलाड़ियों ने अपने सुनहरे दौर मे मैच जिताऊ खिलाड़ी बने। रायगंज बंगाल के टूर्नामेंट्स मे अररिया फुटबाल का सिक्का कुछ इस तरह जमा कि दिग्गज कलकत्ता टीम भौंचक्की रह गयी। नोनी दा की अगुआई मे समधी जी, पहाड़ी जी, कबीर दा एवं टीम के अन्य खिलाड़ियों ने कलकत्ता टीम को हराकर समूचे बिहार बंगाल मे अररिया स्पोर्ट्स क्लब को प्रतिष्ठित कर दिया।

अररिया टाउन क्लब के इस ग्राउंड पर पड़ोसी राष्ट्र नेपाल के धड़ान, धुबी, मलाया, बिराटनगर की टीमों के साथ राजा गढ़बनेली, भागलपुर, मुंगेर, बेगूसराय, सहरसा की टीमों ने मैच खेले।      अररिया के खिलाड़ियों ने अपना डंका बहुत दूर दूर तक बजाया कबीर जी, पहाडी जी, समधी जी जैसे विलक्षण खिलाड़ियों ने रायगंज (प.बंगाल) और कोसी क्लब सहरसा मे विशेष स्थान प्राप्त किया। मुन्ना दा (पेशकार), मुश्ताक, फकरू जमाँ, गयास, अलाउद्दीन मुंशी, मोहन श्रीवास्तव, फुना इस्राइल, नसीम भाई, गैयारी के समशुल और मोकरम, आंध्रा क्लब मे शामिल होने वाले मुन्ना गोलकीपर को आज भी जिला वासी याद करते हैं।

 

सत्तर के दशक मे कुट्टू दा, डोरिया के रहीम, महफूज भाई एवं अन्य ने लंबे समय तक फूटबाल को सिरमौर बनाए रक्खा। टाउन क्लब के लिए खेलने वाले स्थानीय खिलाड़ियों में जैनूल आबदीन, महमूद, मुन्ना दा, अतहर हुसैन, मुश्ताक, मुन्ना गोलकीपर, अजय सेनगुप्ता, नानु दा, फरीद अंसारी, मंजूर आलम, मीर मंसूर, मसूद आलम, नसीम, हुसैन एवं अन्य का योगदान उल्लेखनीय है. नब्बे के दशक में सुभाष प्रसाद यादव, सरवर, बिजय जैन, फ़िरोज़ आलम  जैसे प्रतिभाशाली और समर्पित खिलाड़ियों ने इंटर यूनिवर्सिटी टूर्नामेंट्स खेलते हुये जिले का नाम रौशन किया है. फ़िरोज़ आलम एक उत्कृष्ट गोलकीपर के रूप में याद किये जाते हैं.

अस्सी के दशक में इस ग्राउंड पर नेताजी सुभाष फुटबाल टूर्नामेंट का आयोजन होता रहता था जिसमे दूर दूर से चलकर आम दर्शक चार आने आठ आने की टिकट खरीद  मैच का लुत्फ़ उठाते.  पड़ोस के बंगाल क्षेत्र दालकोला, रायगंज के मैदानों पर मैच देखने भारी संख्या में लोग जमा होते थे. अररिया और यहाँ के खिलाड़ियों को मिल रहे निरंतर सम्मान से उत्साहित हो कर क्लब ग्राउंड पर चाहर दीवारी का निर्माण कराया गया जिसमे सदस्य श्री सेनगुप्ता जी, एस.एन. शरण जी एवं पूर्व एस. डी. ओ. विजय प्रकाश जी ने अपना योगदान दिया है। सांसद मंत्री डूमर लाल बैठा, अधिकारी यु.के.सिंह, ए.के. सरकार, बी.प्रधान इत्यादि के सहयोग से विजय स्टैंड, रन बहादुर स्टैंड, यूथ सेंटर और शेड्स का निर्माण कार्य संपन्न हुआ. साल 2004 मे उत्तर पूरब दिशा मे एक पवेलियन भी बनाया गया। स्थानीय सांसद विजय मण्डल और सुकदेव पासवान ने स्टेडियम के विस्तार मे सहयोग किया है.

1990 मे ज़िला बनने के बाद खेलकूद को स्तरीय बनाने की दिशा मे पूर्व डी.एस.ए. सचिव ज़ाहिद हुसैन जी, मार्केटिंग ऑफिसर अंसारी साहब के प्रयास सराहनीय हैं। बीते दो दशक मे इस ग्राउंड पर क्रिकेट लीग भी खूब खेले गए, जिसके आयोजन मे सत्येंद्र नाथ शरण, फुटबाल रेफरी राजेन्द्र प्रसाद यादव, डी.के. मिश्रा एवं गोपेश सिन्हा निरंतर सक्रिय रहे। इसी  ऐतिहासिक ए-टीम ग्राउण्ड पर अभ्यास करने वाले तीव्र गति के किशोर धावक शाहिद ने राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं मे ढेरो मेडल जीते हैं। डिस्ट्रिक्ट लीग खेलने वाले आल राउंडर क्रिकेटर रविशंकर दास और ओमप्रकाश जायसवाल अपने बेहतरीन प्रदर्शन के बल पर बिहार स्टेट टीम में चयनित हुए. वर्तमान डी.एस.ए. सचिव मोहम्मद मासूम रज़ा भी मानते हैं कि अररिया ज़िले मे प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, अपने यहाँ भी ओलंपिक स्तर के खिलाड़ी हैं केवल आवश्यकता है उन युवा रत्नो की खोज कर तराशने की।

 

आज स्थानीय नेताजी स्टेडियम का महत्व व्यापक हो चला है. गुजरे दिनों में इस ग्राउंड पर कव्वाली, नाटकों का मंचन होता रहा है. कवि सम्मेलन, मुशायरे के बहाने भी स्टेडियम का मुख्य मंच अतिथियों और मेज़बानों का मिलन स्थल बना. ज़िला प्रशासन द्वारा आयोजित स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस समारोह के हम सभी साक्षी हैं.  स्टेडियम में समय समय पर विभिन्न प्रदर्शनी प्रतियोगिताओं, मेले एवं जागरूकता अभियानो के बैनर बांधे गए. यह ग्राउंड महिला फुटबाल टूर्नामेंट के आयोजनो का भी गवाह है. परोसी राष्ट्र नेपाल की किशोरियों व महिलाओं ने पूर्व मे मैच खेले, गत दीनों रंजना वर्मा की स्मृति मे महिला फुटबालल टूर्नामेंट सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ जिसमे अररिया टाउन क्लब के सदस्यों, अनुमंडल पदाधिकारी,  एवं जिलाधिकारी व आरक्षी अधीक्षक का सहयोग स्मरणीय रहेगा।

Posted in Sports | Tagged: | Leave a Comment »

अररिया जिला क्रिकेट में गोपेश सिन्हा का योगदान

Posted by Sulabh on March 17, 2015

गोपेश सिन्हा पहले व्यक्ति हुए जिन्होंने क्रिकेट प्रशिक्षण प्राप्त कर स्थानीय खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया. इनके प्रशिक्षण का यह असर हुआ कि अखिल भारतीय सुखदेव नारायण मेमोरियल पटना के 14वीं प्रतियोगिता में चन्दन कुमार गुप्ता आलराउंडर को बेस्ट बॉलर का पुरस्कार पूर्व स्टार क्रिकेटर मोहिंदर अमरनाथ एवं अजय जडेजा के द्वारा प्राप्त हुआ. उसी वर्ष जमशेदपुर टाटा में श्यामल सिन्हा ट्रोफी (U16) एकीकृत बिहार B.C.A. प्रतियोगिता में अररिया की टीम उपविजेता हुयी. इस प्रतियोगिता में धनबाद, पटना, कटिहार, साहेबगंज पर अररिया जिला की टीम ने विजय प्राप्त की थी. यह ऐतिहासिक उपलब्धि है. इसके अलावा अररिया कालिज अररिया अंतर महाविद्यालय मधेपुरा क्रिकेट प्रतियोगिता में लगातार चार बार विजेता रही है.

वर्तमान में अररिया समाहरणालय जहाँ अवस्थित है वह अररिया क्रिकेट क्लब का मैदान हुआ करता था जहाँ सत्तर और अस्सी के दशक में कोलकाता निवासी श्री मूर्तिलाल रॉय जो बंगाल और आसाम से रणजी ट्रोफी प्रतियोगिता में प्रतिनिधित्व किया करते थे उन्हें अररिया क्रिकेट क्लब के सौजन्य से अररिया बुलाया गया था और उन्होंने उस क्लब के खिलाड़ियों देवब्रत चौधरी (कुटू दा) कप्तान, गोपेश सिन्हा, प्रवीर सान्याल (मन्टो दा) सुबोध वर्मा (विकेटकीपर), स्व० किशोर रॉय, रंजन सिंह आदि खिलाडियों को बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग का प्रशिक्षण दिया करते थे. उन्ही के शिष्य गोपेश सिन्हा ने जिला क्रिकेट संघ की स्थापना के बाद अपने एक सरकारी पदाधिकारी श्री कामेश्वर प्र० सिंह के मदद से पुनः अररिया क्रिकेट क्लब (A.C.C.) की स्थापना 1995 में कर क्रिकेट के स्तर को उठाने का महती कार्य शुरू किया. ए.सी.सी. ग्राउंड पर सुबह और शाम के सत्रों में  प्रशिक्षण देना आरम्भ किया. और फिर अररिया में पहली बार प्रशिक्षित क्रिकेटरों का खेल रंग लाने लगा. श्री सिन्हा द्वारा प्रशिक्षित खिलाडियों की संख्या गिनाई नहीं जा सकती किन्तु रविशंकर, अनामिशंकर, राजीव मिश्रा, विवेक सिन्हा, अनिश सिंह, विवेक प्रकाश, विकास प्रकाश, संजीव सिंह, गोपाल झा, मुकेश रजक, सुशील रॉय, अजय राम, अमित सेनगुप्ता, चन्दन गुप्ता आदि प्रमुख हैं जिन्होंने अररिया से पटना, धनबाद, जमशेदपुर, खगड़िया, पूर्णियां और कटिहार के क्रिकेट में अपना विशिष्ट पहचान बनाया.

गोपेश सिन्हा आज भी छोटे बच्चों को प्रशिक्षण देते देखे जा सकते हैं. क्रिकेट की चर्चा पर वे दुखी होकर कहते हैं कि आज बिहार क्रिकेट की दुर्गति के कई कारण हैं वो छिपी बात नहीं है, किन्तु सबसे अहम बात यह है कि बगैर प्रशिक्षण के स्तरीय क्रिकेट युवा खेल ही नहीं सकते और बिहार में प्रशिक्षण की कोई व्यवस्था नहीं है. आप बिहार क्रिकेट का इतिहास देख लें  कोई बल्लेबाज ऐसा नहीं जो शतकों की झड़ी लगा दे और गेंदबाजी में विकटों का ढेर लगा दे. नियमित प्रशिक्षण के अभाव में आप बड़े क्रिकेटर नहीं बन सकते. इसके लिए आपको प्रशिक्षण के कठिन दौर से गुजरना होगा.

Posted in Sports | Tagged: , , | Leave a Comment »